scriptMIC's resolution hanging in the balance | Municipal Corporation: समय पर बन जाते मैरिज लॉन तो नहीं देना पड़ता महंगा किराया | Patrika News

Municipal Corporation: समय पर बन जाते मैरिज लॉन तो नहीं देना पड़ता महंगा किराया

locationछिंदवाड़ाPublished: Nov 25, 2023 07:55:01 pm

Submitted by:

prabha shankar

- प्रशासन से समय पर नहीं मिल सकी जमीन, अधर में लटका एमआईसी का संकल्प

- एकादशी के बाद हर मुहूर्त पर 50 शादियां, निजी-लॉन व होटलों में बुकिंग मजबूरी

MIC's resolution hanging in the balance
MIC's resolution hanging in the balance

छिंदवाड़ा। तुलसी ग्यारस होते ही शादी-विवाह की शहनाइयां की गूंज की राह खुल गई है। ऐसे में गरीब परिवारों के लिए नगर निगम के प्रस्तावित मेरिज लॉन की आवश्यकता फिर महसूस होने लगी है। वर्तमान में प्रशासन से जमीन का चिन्हांकन और आवंटन न होने से निगम की एमआईसी का संकल्प अधर में लटका हुआ है।
देखा जाए तो इस सीजन में 50 से ज्यादा विवाह मुहुर्त है। एक मुहर्त में शहर में औसत 50-100 शादियां होती है। इस दौरान मेरिज लॉन और होटल मिलना मुश्किल हो जाते हैं। फिर 50 हजार से लेकर 1.50 लाख रुपए का किराया गरीब और निम्न मध्यम वर्ग को वहन करना मुश्किल हो जाता है। इसे देखते हुए पिछले साल 2022 में नगर निगम में सत्तारूढ़ कांग्रेस परिषद की एमआईसी ने निगम मेरिज लॉन के निर्माण का संकल्प पारित किया था। निगम के पास जमीन न होने से यह मामला लटक गया। निगम प्रशासन ने इस पर कलेक्टर को पत्र लिखा। उसके बाद भी जमीन आवंटन नहीं हो पाया। इसके चलते इसका निर्माण लटका हुआ है।


एक शादी में न्यूनतम दो लाख का खर्च

महंगाई के जमाने में जब खाद्य पदार्थ समेत अन्य सेवाओं में मूल्य वृद्धि हुई है, उससे शादी का न्यूनतम खर्च दो लाख रुपए पहुंच गया है। इसमें लॉन का किराया, भोजन और डेकोरेशन की राशि शामिल है। ये तो गरीब और निम्न मध्यम वर्ग की शादी का आंकलन है। कहा जा रहा है कि यदि निगम के मेरिज लॉन निर्माण हो जाए और रियायती दर पर मिल जाए तो कम से कम लॉन किराया के बजट को कम किया जा सकता है।

सामाजिक भवन, लॉन, होटल समेत 150 स्थल
शहर के 48 वार्डों में शादी-ब्याह करने सामाजिक भवन, लॉन, होटल, सामुदायिक भवन समेत 150 स्थल है। जिनमें हर विवाह मुहुर्त में शादी हो रही है। कुछ विवाह स्थल पर भोजन व डेकोरेशन समेत अन्य सुविधाएं है तो कुछ में विवाह-डेकोरेशन का इंतजाम करना पड़ता है।
जमीन मांगी गई है
नगर निगम की ओर से शहर के चारों तरफ मेरिज लॉज का संकल्प पारित किया गया है। निगम की ओर से प्रशासन से इसकी जमीन मांगी गई है। इसके मिलते ही लॉन का निर्माण होगा। इसे गरीब परिवारों को रियायती दर पर दिया जाएगा।
-धर्मेन्द्र सोनू मागो, अध्यक्ष नगर निगम

ट्रेंडिंग वीडियो