मशाल जुलूस निकाल कर जताया विरोध

श्रमिक संगठन सीटू के नेताओं ने परासिया में नुक्कड सभा में कहा कि केंद्र सरकार कोयला खदानों को घाटे में बताकर साजिश के तहत बंद कर रही है। आज सभी को एकजुट होकर खदानों को बंद होने से बचाने की जरूरत है। रविवार शाम लाल झंडा कोल माइंस यूनियन सीटू ने नगर के अंबेडकर चौराहे से लेकर गुरुनानक चौक तक मशाल जुलूस निकाला।

By: Rahul sharma

Published: 27 Sep 2021, 10:48 AM IST

छिन्दवाड़ा/ परासिया. श्रमिक संगठन सीटू के नेताओं ने परासिया में नुक्कड सभा में कहा कि केंद्र सरकार कोयला खदानों को घाटे में बताकर साजिश के तहत बंद कर रही है। आज सभी को एकजुट होकर खदानों को बंद होने से बचाने की जरूरत है। रविवार शाम लाल झंडा कोल माइंस यूनियन सीटू ने नगर के अंबेडकर चौराहे से लेकर गुरुनानक चौक तक मशाल जुलूस निकाला। वक्ताओं ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार उद्योगपति एवं पूंजी पतियों को सार्वजनिक क्षेत्र के उद्योगों को बेच रही है। वही 3 नए कृषि कानून लाकर किसानों पर कुठाराघात कर रही है। इसके अलावा नए श्रम कानून भी उद्योगपतियों के फायदे के लिए लाए गया है। देश में लगातार महंगाई एवं बेरोजगारी बढ़ रही है। आम जनता और गरीब मजदूर परेशान है। मशाल जुलूस में पेंच एवं कन्हान क्षेत्र के अध्यक्ष अमरनाथ सिंह, महासचिव मीर हसन, वरिष्ठ नेता मारकंडे मिश्रा, सचिव अशोक भारती, शशिकपूर भारती,मो अनवर,विकास सातनकर, राजदीप दूबे, संतोष साहू, प्रमिला निगम सहित संगठन के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता शामिल थे।

Rahul sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned