script RAILWAY: 21 दिनों से उमरानाला में खड़ी है पातालकोट एक्सप्रेस, कभी कभार होती है आगे-पीछे | RAILWAY: Patalkot Express has been standing in Umranala for 21 days | Patrika News

RAILWAY: 21 दिनों से उमरानाला में खड़ी है पातालकोट एक्सप्रेस, कभी कभार होती है आगे-पीछे

locationछिंदवाड़ाPublished: Feb 01, 2024 12:37:57 pm

Submitted by:

ashish mishra

26 दिनों के लिए ट्रेन है रद्द, 6 फरवरी से पटरी पर लौटेगी यह ट्रेन

RAILWAY: 21 दिनों से उमरानाला में खड़ी है पातालकोट एक्सप्रेस, कभी कभार होती है आगे-पीछे
RAILWAY: 21 दिनों से उमरानाला में खड़ी है पातालकोट एक्सप्रेस, कभी कभार होती है आगे-पीछे
छिंदवाड़ा. पातालकोट एक्सप्रेस की रैक पिछले 21 दिनों से उमरानाला स्टेशन में खड़ी है और धूल फांक रही है। इस ट्रेन की बोगियों की सुरक्षा पर भी बड़ा सवाल है। दरअसल आगरा रेल मंडल में कार्य के चलते सिवनी से फिरोजपुर जाने वाली पातालकोट एक्सप्रेस 11 जनवरी से 5 फरवरी तक एवं फिरोजपुर से सिवनी आने वाली पातालकोट एक्सप्रेस 12 जनवरी से 6 फरवरी तक निरस्त की गई है। 12 जनवरी को रेलवे ने पातालकोट एक्सप्रेस की दो रैक छिंदवाड़ा भेज दी। छिंदवाड़ा रेलवे स्टेशन में ट्रेन की रैक को खड़ी करने की जगह न होने की वजह एक रैक सिवनी जिले के केवलारी रेलवे स्टेशन एवं दूसरी रैक छिंदवाड़ा जिले के उमरानाला स्टेशन में खड़ी कर दी गई। केवलारी में खड़ी रैक कुछ दिन बाद ही फिरोजपुर भेज दी गई। वहीं दूसरी रैक उमरानाला स्टेशन में अब तक खड़ी है। बड़ी बात यह है कि इस रैक में एसी कोच के अटेंडर भी रह रहे थे, लेकिन वह भी कुछ दिन बाद चले गए। इस समय ट्रेन की देखरेख भगवान भरोसे हैं। हालांकि दिन में छिंदवाड़ा रेलवे स्टेशन से कर्मचारी नियमित अंतराल पर उमरानाला जाते हैं और वे इंजन को स्टार्ट करके ट्रेन को कुछ दूर आगे-पीछे करते हैं। वहीं आरपीएफ के पास ट्रेन की सुरक्षा का जिम्मा है।
शाम होते ही अंधेरे में डूब जाता है स्टेशन
पातालकोट एक्सप्रेस के सभी बोगी को लॉक करके उमरानाला स्टेशन में खड़ा किया गया है। लेकिन रेलवे स्टेशन में चारों तरफ प्रकाश की प्रर्याप्त व्यवस्था भी नहीं है। शाम होते ही स्टेशन का अधिकतर हिस्सा अंधेरे में डूब जाता है। वहीं यहां सीसीटीवी भी नहीं लगाया गया है। ऐसे में ट्रेन की बोगियों को अराजक तत्व नुकसान भी पहुंचा सकते हैं।
पिट लाइन न होने से भेजना होगा वापस
छिंदवाड़ा रेलवे स्टेशन में पिट लाइन न होने की वजह से ट्रेन की साफ-सफाई एवं सर्विसिंग भी नहीं हो पाएगी। जबकि पूर्व निर्धारित समय-सारणी के अनुसार चार दिन बाद पातालकोट एक्सप्रेस का परिचालन
शुरु करना है। जानकारों का कहना है कि बिना सफाई के ट्रेन चलाना मुश्किल है। ऐसे में रैक को या तो वापस भेजा जाना चाहिए या फिर जहां पिट लाइन है वहां से सफाई एवं सर्विसिंग करानी चाहिए।

ट्रेंडिंग वीडियो