घर में किया फोन, कहा- ये लोग मुझे ले जा रहे हैं और गोली मार देंगे, फिर कुछ देर में सबको कर दिया हैरान

इस पूरे घटनाक्रम को लेकर पुलिस की सक्रियता सवालों के घेरे में है

चित्रकूट. क्या हो अगर आपके किसी परिजन की आपसे कुछ देर पहले बात हो और वो भी इस आशंका के साथ वो किसी मुसीबत में है और फिर चंद घण्टे बाद उसकी लाश बरामद हो जाए। जी हां कुछ ऐसी ही सनसनीखेज वारदात हुई एक खोवा व्यापारी के साथ जिसको हत्यारों ने गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया। वारदात के बाद मृतक के परिजनों में कोहराम मचा है तो वहीं इस पूरे घटनाक्रम को लेकर पुलिस की सक्रियता सवालों के घेरे में है। फिलहाल हत्यारों की तलाश जारी है।


रास्ते से हुआ अपहरण


जनपद के मानिकपुर थाना क्षेत्र के खोवा व्यापारी अंतिम लाल कुशवाहा का उस समय रास्ते से अपहरण कर लिया गया जब वे अपने घर से खोवे के व्यापार को लेकर अपनी बाइक से निकले थे। परिजनों व जानकारी के मुताबिक कुछ देर बाद व्यापारी अंतिम लाल कुशवाहा ने फोन करके बताया कि उन्हें कुछ हथियारबंद लोग ले जा रहे हैं और गोली मार देंगे, इसके बाद फोन कट गया। परिजनों ने तत्काल पूरे मामले की सूचना पुलिस को दी।


खाक छानती रही पुलिस उधर बरामद हुआ व्यापारी का शव


घटना की सूचना पर पुलिस ने व्यापारी की तलाश शुरू की। इस दौरान परिजनों के मुताबिक अपह्रत व्यापारी का मोबाइल ऑन था और उसपर बेल जा रही थी लेकिन कॉल रिसीव नहीं हो रही थी। इधर पुलिस इलाके में व्यापारी की तलाश में सर्च ऑपरेशन चला रही थी। कुछ समय बाद मवरियादाई जंगल में चरवाहों ने एक शव पड़े होने की सूचना पुलिस को दी।


परिजनों में कोहराम

जंगल में शव बरामद होने की सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव की शिनाख़्त करवाई जो उसी खोवा व्यापारी अंतिम लाल कुशवाहा की निकली जिसकी तलाश पुलिस कर रही थी। शव देखते ही परिजनों में कोहराम मच गया। इलाके में सनसनी फैल गई।


हत्यारों ने गोली मारकर उतारा मौत के घाट


हत्यारों ने खोवा व्यापारी को गोली मारकर मौत की आगोश में पहुंचाया। गोली व्यापारी के पैर व पेट में मारी गई। खास बात यह कि अपह्रत व्यापारी से कोई लूट नहीं हुई। शव की तलाशी के दौरान व्यापारी के पास मौजूद रही कुछ रकम व पर्स तथा खोवा और जंगल के रास्ते में उसकी बाइक बरामद हुई।


जारी है हत्यारों की तलाश


वारदात के बाद पुलिस ने हत्यारों की तलाश शुरू कर दी है। यूं तो पाठा का जंगल विगत कई वर्षों से खूंखार डकैतों के साए में था लेकिन अब सभी बड़े दस्यु गैंगों का सफाया हो चुका है। इसलिए किसी दस्यु गिरोह पर फिलहाल वारदात को अंजाम देने का शक पुलिस प्रथम दृष्टया नहीं मान रही है। पुलिस के मुताबिक फिरौती से सम्बंधित मामला भी सामने नहीं आ रहा। एसपी अंकित मित्तल के मुताबिक फिलहाल मामला आपसी रंजिश का लग रहा है। हत्यारों की तलाश के लिए कई टीमें लगाई गई हैं। हालांकि मृतक के परिजनों ने किसी रंजिश से इंकार किया है अभी फिलहाल।

Ruchi Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned