ट्रेन में सवार हुआ दस्यु बबुली, आंखों से हुआ ओझल खाकी साबित हुई लकीर की फकीर

_जहर उगलती है फैक्ट्रियां,कालोनियों में प्रदूषण और कार्बन गिरने से हुई बुरी तरह प्रभावित लोग, लोगो के फेफड़ों और आंखों में हुई जलन ।

By: आकांक्षा सिंह

Published: 15 Jan 2018, 01:35 PM IST

चित्रकूट. साढ़े पांच लाख के इनामी कुख्यात डकैत बबुली कोल और उसकी गैंग ने खाकी की नाक के नीचे ट्रेन में यात्रा की और निकटतम स्टेशन पर उतरकर सभी खाकी की आंखों से ओझल हो गए। पुलिस डकैतों की परछाई भी न पकड़ सकी। हालांकि चित्रकूट पुलिस इस बात को छिपाने की कोशिश कर रही है लेकिन सम्बंधित स्टेशन पर तैनात आरपीएफ व् बीहड़ के सूत्रों ने तस्दीक की है कि गैंग ट्रेन में सवार होकर निकट के स्टेशन पर उतरा और फिर अपने मुखबिरों की सहायता से गुम हो गया। सूत्रों के मुताबिक डकैत चित्रकूट के मानिकपुर स्टेशन से जनता एक्सप्रेस ट्रेन में सवार होकर मध्य प्रदेश के मझगवां स्टेशन पर उतर गए। इस दौरान मुखबिर की सूचना पर चित्रकूट पुलिस ने डकैतों का पीछा किया लेकिन सफलता हांथ नहीं लगी।

खाकी को खुली चुनौती देने वाला खूंखार डकैत बबुली कोल पुलिस को चकमा देकर आंखों से ओझल हो गया। जब तक पुलिस डकैतों तक उनकी परछाई भी पकड़ने को पहुंचती तब तक गैंग और सरगना अपने मुखबिरों मददगारों की मदद से विलीन हो गए। दस्यु बबुली कोल अपने 3 अन्य साथियों के साथ मुम्बई जाने वाली जनता एक्सप्रेस ट्रेन में सवार होकर निकटतम मझगवां स्टेशन पर उतर गया। पुलिस ने स्टेशन की घेरेबंदी करते हुए डकैतों की लोकेशन ट्रेस करनी चाही लेकिन नतीजा शून्य रहा।

जनता एक्सप्रेस ट्रेन में सवार हुआ बबुली

बीहड़ में दहशत का साम्राज्य कर चुका दस्यु बबुली अपने साथियों के साथ मानिकपुर जंक्शन से जनता एक्सप्रेस ट्रेन में सवार हुआ। सूत्रों के मुताबिक इस बात की सूचना मुखबिरों के जरिए चित्रकूट पुलिस को भी मिल गई। सूत्रों के मुताबिक भीड़ का फायदा उठाकर डकैत ट्रेन में चढे और पहचान छुपाने के लिए डकैतों ने कम्बल ओढ़ रखे थे। सूचना पर एसपी प्रताप गोपेंद्र अपर एसपी बलवंत चौधरी के नेतृत्व में कई थानों की फ़ोर्स ने ट्रेन का पीछा करते हुए डकैतों को रास्ते में ही घेरने की योजना बनाई। डकैत जनरल कोच में न चढ़ते हुए स्लीपर कोच एस 4 में सवार हुए ताकि किसी को शक न हो।

मझगवां स्टेशन पर घेरेबंदी

मानिकपुर सतना रेलमार्ग पर पड़ने वाले मध्य प्रदेश के मझगवां स्टेशन पर डकैतों के उतरने की संभावित सूचना मुखबिरों से मिलने के बाद चित्रकूट पुलिस ने मझगवां स्टेशन को घेरते हुए डकैतों की तलाश में चप्पे चप्पे को छान मारा लेकिन उनकी परछाई भी खाकी की राडार पर न आ सकी। स्थानीय लोगों से भी पूछताछ की गई लेकिन कोई सटीक जानकारी नहीं मिल सकी।

ट्रेन में सवार हुई खाकी भी

मुखबिर द्वारा सूचना पर पुलिस भी ट्रेन में सवार हुई। मानिकपुर मझगवां स्टेशन के बीच पड़ने वाले टिकरिया स्टेशन से मारकुंडी थानाध्यक्ष अपनी टीम के साथ सवार हुए और चलती ट्रेन में ही डकैतों की तलाश शुरू की लेकिन भीड़ के बीच मौजूद डकैत खाकी की नजरों में न आ सके। बीहड़ के सूत्रों के मुताबिक डकैत अपनी वेशभूषा भी बदलने लगे हैं और ऐसी किसी भी यात्रा के समय वे छोटे हथियार अपने पास रखते हैं।

 

सतना पुलिस को नहीं दी गई सूचना

इस पूरे सर्च ऑपरेशन के दौरान पड़ोसी राज्य मध्य प्रदेश की सतना पुलिस को चित्रकूट पुलिस द्वारा सूचना न देने की बात भी सामने आ रही है अलबत्ता मझगवां स्टेशन की आरपीएफ को जरूर गोपनीय तरीके से इस स्टेशन पर सघन चेकिंग की जानकारी दी गई थी। मझगवां स्टेशन आरपीएफ ने इस बात की तस्दीक की है कि डकैतों की तलाश में चित्रकूट पुलिस ने सर्च ऑपरेशन चलाया था। आरपीएफ भी डकैतों के मूवमेंट की खबर पर एलर्ट हो गई है और दस्यु प्रभावित इलाकों में पड़ने वाले मझगवां टिकरिया बांसा पहाड़ मानिकपुर स्टेशन पर गश्त थोडा तेज कर दी है। हालांकि इस बारे में चित्रकूट पुलिस कुछ भी साफ साफ बताने को तैयार नहीं परन्तु पुलिस सूत्रों के मुताबिक सर्च ऑपरेशन चलाया गया था पर सफलता नहीं मिली।

आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned