स्कूली छात्रों ने मौज-शौक पूरे करने के लिए चुराए मोबाइल

सदर थाना पुलिस ने शहर के प्रतापनगर क्षेत्र में एक दुकान से ऑनलाइन खरीदे गए एक लाख रुपए से अधिक कीमत के मोबाइल के चोरी होने का मामले का खुलासा कर दिया है।

मोबाइल चोरी के मामले में दो नाबालिग डिटेन
चित्तौडग़ढ़. सदर थाना पुलिस ने शहर के प्रतापनगर क्षेत्र में एक दुकान से ऑनलाइन खरीदे गए एक लाख रुपए से अधिक कीमत के मोबाइल के चोरी होने का मामले का खुलासा कर दिया है। खुलासे में चौकाने वाले तथ्य सामने आए है। शहर के निजी स्कूल में पढऩे वाले संभा्रन्त परिवारों के दो बच्चों ने ही इस घटना को अंजाम दिया। माना जा रहा है कि उन्होंने अपने मौज-शौक पूरे करने के लिए इस तरह की घटना को अंजाम दिया। पुलिस ने मामले में दो नाबालिग को डिटेन कर उनके कब्जे से चोरी गए नौ मोबाइल भी ज़ब्त किए हैं। थानाधिकारी सदर चित्तौडग़ढ़ विक्रम सिंह ने बताया कि शहर के प्रतापनगर में हरिओम मोबाइल नामक दुकान के संचालक माताजी की पांडोली निवासी चंद्रेश पिता बद्रीलाल ईनाणी ने थाने पर रिपोर्ट दी कि 14 अक्टूबर को वह रात्रि को दुकान बंद करके अपने घर चला गया एवं पुन: 15 अक्टूबर को सुबह दुकान खोलने आया तो देखा कि दुकान के ताले टूटे हो शटर ऊंची हो रही है। दुकान के अंदर जाकर देखा तो दुकान में में रखे ऑनलाइन मंगवाएं गए मोबाइल गायब थे। सदर थाना पर चोरी का प्रकरण दर्ज कर जांच शुरू की गई। घटना को गंभीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक अनिल कयाल ने इसे शीघ्र सुलझाने के निर्देश दिए। बुधवार को मुखबिर से सूचना मिली की दो नाबालिग लड़के प्रताप नगर क्षेत्र में मोबाइल बेचने के लिए लेकर घूम रहे हैं। जिस पर थाने से एएसआई कन्हैया लाल मय जाब्ता मौके पर पहुंचे व दोनों नाबालिक लड़कों को डिटेन कर थाने लाए। जहां उनसे पूछताछ करने पर उन्होंने उक्त मोबाइल प्रताप नगर स्थित हरिओम मोबाइल की दुकान से ही चोरी करना स्वीकार किया है। दोनों नाबालिग लड़कों से चोरी किए गए 9 मोबाइल जब्त कर गुरुवार को किशोर न्याय बोर्ड में पेश किया गया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned