जरा सी गफलत, भारी कीमत...यहां से भाग गया कोरोना फिर लौटा

coroप्रवासियों की आमद के साथ जिन शंकाओं ने चूरू में प्रवेश किया, शुक्रवार रात होते-होते वह चिंता और गहराती गई, जब दो लोग कोरोना पॉजिटिव निकले।

By: Brijesh Singh

Updated: 10 May 2020, 08:30 AM IST

चूरू. प्रवासियों को होम क्वारेंटाइन करने का फैसला शहर के लिए भारी पड़ता नजर आ रहा है। खासतौर से जिला प्रशासन और चिकित्सा विभाग के लिए। चूरू में एक साथ तबलीगी जमात के दस लोगों दो चरणों में पॉजिटिव मिलने के बाद चले सघन स्क्रीनिंग, सर्वे और सैंपलिंग अभियान के बाद पूरा शहर एक तरह से सैनेटाइज हो गया था। खोज-खोज कर भी सैंपलिंग कराई गई, लेकिन किसी में भी कोविड-19 संक्रमण के लक्षण तक नहीं दिखे। लेकिन प्रवासियों की आमद के साथ जिन शंकाओं ने चूरू में प्रवेश किया, शुक्रवार रात होते-होते वह चिंता और गहराती गई, जब दो लोग कोरोना पॉजिटिव निकले।

सूरत से आए दो लोगों के कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद मेडिकल टीमों ने शनिवार को बालिका विद्यालय में सूरत, महाराष्ट्र से आए तकरीबन 80 लोगों की सैंपलिंग की। इनमें कोरोना संक्रमित दोनों लोग जिन दो निजी बसों से आए थे, उनमें सवार 34 लोग शामिल हैं। इसके अलावा भी जो लोग, लॉकडाउन 3-0 में प्रवासियों के लिए आवागमन की छूट मिलने के बाद यहां आए, उन लोगों को लिस्ट के आधार पर खोजा गया और उनकी सैंपलिंग करवाई गई। गौरतलब है कि इनमें से एक बस चूरू में आठ लोगों को और रतनगढ़ में एक व्यक्ति को उतारने के अलावा बस को लेकर बिसाऊ की ओर गई थी।

लिहाजा, वहां भी इस बारे में खबर भेज दी गई है और मेडिकल टीमों को उन्हें फॉलो करने के लिए कहा गया है। दूसरी ओर, मेडिकल टीमों के पता चला कि पॉजिटिव मिले दो में से एक शख्स ने किसी के साथ भोजन भी किया था। उसे डीबीएच में आईसोलेट कर दिया गया है।

चूरू की ताजा खबरों के लिए यहां क्लिक करें...

Brijesh Singh Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned