मानसिक समस्या एक गंभीर चुनौती

मानसिक समस्या धीरे-धीरे गंभीर चुनौती बनता जा रहा है, विश्वभर सहित भारत सरकार एवं नि हांस बैंगलुरू की ओर से किए अध्ययन में यह सामने आया है कि दस प्रतिशत लोग किसी न किसी मानसिक समस्या से ग्रसित है।

By: Madhusudan Sharma

Published: 04 Apr 2021, 10:56 AM IST

चूरू. मानसिक समस्या धीरे-धीरे गंभीर चुनौती बनता जा रहा है, विश्वभर सहित भारत सरकार एवं नि हांस बैंगलुरू की ओर से किए अध्ययन में यह सामने आया है कि दस प्रतिशत लोग किसी न किसी मानसिक समस्या से ग्रसित है। इस दौरान कोरोना महामारी के कारण लोगों में तनाव में वृद्धि हुई है। मानसिक रोगों में लोगों का घृणात्मक नजरिया एक बहुत बड़ी बाधा है। चूरू मेडिकल कॉलेज में सहायक आचार्य डॉ. अजिताभ सोनी से बातचीत
सवाल- मानसिक रोग होने के कारण क्या है।
चिकित्सक- मानसिक रोग शारीरिक, रसायनिक असंतुलन से पैदा होता है। तनावपूर्ण परिस्थितियां, बिगड़ी जीवनशैली एवं आनुवांशिक कारणों से रोग के लक्षण दिखाई देने लगते हैं। मानसिक रोग को लोग पागलपन समझ बैठते हैं, जिसके चलते चिकित्सक से सलाह लेने में कतराते हैं। जबकि मानसिक रोग 300 से भी अधिक तरह के होते हैं।

सवाल- मानसिक रोग की प्रमुख वजह।
चिकित्सक- सबसे प्रमुख घबराहट, बैचेनी, अत्यधिक चिंता एवं अवसाद से जुड़ी समस्याएं होती है। लेकिन इलाज से पूरी तरह से व्यक्ति ठीक हो सकता है। पुरुषों के बजाए महिलाओं में रोग ज्यादा देखने को मिलता है।

सवाल- क्या मानसिक रोगी के ठीक होने में परेशानी क्या है।
चिकित्सक- मानसिक रोगों में लोगों का घृणात्मक रवैया रोगी के ठीक होने में एक बहुत बड़ी परेशानी है। लोगों में जागरुकता की कमी के चलते सही समय पर इलाज शुरू नहीं होने से करीब 90 प्रतिशत लोग ठीक नहीं हो पाते हैं। जबकि मानसिक रोगों का इलाज संभव है।

सवाल- क्या इसका इलाज संभव है।
सही समय पर मनोरोग विशेषज्ञ से सलाह के बाद इलाज से इन रोगों से निजात पाई जा सकती है। स्वस्थ्य जीवन शैली, जिसमें पर्याप्त नींद, संतुलित भोजन सहित नियमित व्यायाम से इससे बचा जा सकता है। समय पर इलाज नहीं होने से रोग असाध्य हो जाते हैं।

Show More
Madhusudan Sharma Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned