एक्ट में संशोधन के विरोध में बंद रहे बाजार

एक्ट में संशोधन के विरोध में बंद रहे बाजार

Rakesh gotam | Publish: Sep, 06 2018 10:14:24 PM (IST) Churu, Rajasthan, India

सौंपे राष्ट्रपति-प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन, सरकार विरोधी नारों से गूंजे बाजार

चूरू. एससी-एसटी एक्ट में संशोधन के विरोध में सर्वसमाज के आह्वान पर गुरुवार को जिले के बाजार पूर्णतया बंद रहे। बंद का समर्थन कर रहे व्यापारियों, विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों व आम जन ने कलक्टर-एसडीएम को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपे। जिला मुख्यालय पर गढ़ चौराहा, सुभाष चौक,मोचीवाड़ा, स्वामी गोपालदास मार्ग, पंखा सर्किल रोड सहित अन्य क्षेत्रों में व्यापारियों ने अपने प्रतिष्ठान बंद रखकर बंद का समर्थन किया। बंद के कारण लोगों को रोजमर्राका सामान खरीदने में परेशानी का सामना करना पड़ा। हालांकि बाजारों में आवागमन खूब रहा, मगर प्रतिष्ठान बंद रहे। गढ़ चौराहे से बाइक रैली के रूप में रवाना हुए सर्वसमाज के लोग व व्यापारी नारेबाजी करते हुए कलक्ट्रेट पहुंचे। यहां गेट पर सांकेतिक विरोध प्रदर्शन किया। बाद में कलक्टर को ज्ञापन सौंपकर एक्ट में संशोधन को रद्द करने की मांग की। ज्ञापन देने वालों में समता मंच, करणी सेना, परशुराम युवा मंच, खांडल विप्र मंडल, अग्रवाल समाज, सिंधी समाज, सैनी समाज सहित अनेक समाजों से जुड़े लोग मौजूद थे। समता आंदोलन समिति ने प्रदेशाध्यक्ष पारासर नारायण को बेवजह गिरफ्तार करने की निंदा की।


तारानगर. कस्बे का बाजार बंद रहा। व्यापारियों ने प्रतिष्ठान बंद रखे। संयुक्त व्यापार मंडल, दुकानदारों व सर्व समाज के लोगों की ओर से राष्ट्रपति के नाम एसडीएम को ज्ञापन देकर एक्ट में संशोधन नहीं करने की मांग की गई। संयुक्त व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष इमीलाल प्रजापत, व्यापार मंडल अध्यक्ष जुगलकिशोर चाचाण, महेश मंत्री, संजय सोनी, माणकचंद सैनी, हरि इंदौरिया, राम सोनी, बासुदेव शर्मा सहित कई लोग मौजूद थे।


सादुलपुर. भारत बंद के समर्थन में शहर के सभी बाजार बंद रहे। इसके अलावा निजी शिक्षण संस्थानों में अवकाश रहा। सर्व समाज के लोगों ने जुलूस निकाला। सर्वसमाज के लोग मुख्य बाजार घंटाघर के पास सुबह एकत्रित हुए। एससीएसटी एक्ट व केंद्र सरकार की ओर से किए संशोधन को वापस लेने की मांग की। एडवोकेट मुकेश रामपुरा के नेतृत्व में मुख्य बाजार घंटाघर से मुंह पर कालीपट्टी बांध कर जुलूस के रूप में मिनी सचिवालय पहुंचे। एसडीएम को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में बताया कि एससीएसटी एक्ट को पहले से ज्यादा कठोर कर दिया गया है। करणी सेना ने मांग का समर्थन किया। अजय शास्त्री, रामदेव किशनपुरिया, राजू कंदोई, पवन मोहता, करणी सेना के सुखपाल सिंह राठौैड़ उपस्थित थे।


राजलदेसर. एससी एसटी एक्ट में किए संसोधन के विरोध में पुरुषोतम पारीक, धर्मेन्द्र राजवी के नेतृत्व में सवर्ण व ओबीसी समाज के युवकों ने आक्रोश रैली निकाली। रैली मुख्य मार्गों से होती हुई उप तहसील कार्यालय पहुंची। नायब तहसीलदार काशीराम शर्मा को राष्ट्रपति के नाम का ज्ञापन सौंपा।


सालासर. कस्बा भी एक्ट संशोधन के विरोध में बंद रहा। सुबह दुकानें खुली। जीवराज सिंह, मुकेशसिंह, अमित राव, देवीप्रकाश ने निवेदन कर दुकानें बंद कराई।


निजी अस्पतालों ने स्थगित रखी सेवाएं


सुजानगढ़. एससी-एसटी एक्ट में संशोधन के विरोध में सुजानगढ़ पूर्णतया बंद रहा। सर्व समाज व व्यापारियों ने गांधी चौक से जुलूस निकाला। जुलूस का नेतृत्व सुजानगढ़ व्यापार संघ अध्यक्ष चंद्रप्रकाश जांगिड़, सुजानगढ़ व्यापार मंडल प्रदीप तोदी, युवक कांग्रेस अध्यक्ष मुकुल मिश्रा, सुजानगढ़ चैंबर्स ऑफ कॉमर्स के महासचिव प्रेमप्रकाश तूनवाल, पवन बेडिय़ा व अनिल माटोलिया ने किया। जुलूस सडीएम कार्यालय पहुंचा। यहां खाद्य व्यापार संघ अध्यक्ष खुशीराम चांदरा, कांग्रेस विधि प्रकोष्ठ अध्यक्ष सुरेश शर्मा आदि ने एसडीएम को ज्ञापन सौंपा। उधर, निजी चिकित्सालय, नर्सिंग होम ने आईएमए को समर्थन देकर सेवाएं स्थगित रखी। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के सुजला अध्यक्ष डा. एसके छाबड़ा ने बताया कि लॉयंस चेरिटेबल ट्रस्ट में हुई बैठक में चिकित्सकों ने एक्ट में संशोधन का विरोध किया।

लाडनूं. लाडनूं में बंद शांतिपूर्ण रहा। कस्बे में दुकानदारों ने स्वत: ही दुकानें बंद रखी। बाजार में पुलिस जाब्ता तैनात रहा। दोपहर को सवर्णसमाज के प्रतिनिधि मंडल ने तहसीलदार को प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में एससी एसटी एक्ट संवैधानिक व्यवस्था के उपर नहीं थोपने की मांग की। ज्ञापन देने वालों में चेतन सिंह, गोविंदसिंह छपारा, एडवोकेट भगवतीप्रसाद शर्मा, हुलास बैंदा, रामेश्वर पटेल, रिछपाल शर्मा आदि शामिल थे।


बंद पूर्णतया सफल, निकाला जुलूस
रतनगढ़. एक्ट संशोधन के विरोध में रतनगढ़ के सभी बाजार पूर्णतया बंद रहे। यहां के अगुणा बाजार, पश्चिमी बाजार, उत्तरी बाजार, दक्षिणी बाजार सहित गलियों तक की दुकानें बंद थी। शांतिपूर्ण बंद के बाद घंटाघर के पास एकत्रित हुए लोग जुलूस के रूप में एसडीएम कार्यालय पहुंचे। यहां राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन देने वालों में महावीर महर्षि, मुरारीलाल पारीक, बाबूलाल महर्षि, गजेंद्र धडऱ्, अरविंद महर्षि, व्यापार संघ अध्यक्ष रामावतार बूबना, पवन सर्राफ, खंडेलवाल समाज अध्यक्ष श्यामसुंदर जोशी, अग्रवाल समाज अध्यक्ष सुरेश मुरारका, एडवोकेट जगदीश प्रसाद शर्मा, सुभाष महर्षि, निरंजन ताम्रायत, रामकिशन माटोलिया, महेश जोशी , जयप्रकाश इंदौरिया आदि शामिल थे। उन्होंने इस एक्ट संशोधन का विरोध किया और इस पर पुर्नविचार करने की मांग की गई।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned