प्रशंसक ने किया ट्वीट तो फिर उभर आया Irfan Pathan का दर्द

कुछ वक्त पहले भी इंस्टाग्राम लाइव में Suresh Raina के साथ बातचीत में Irfan Pathan ने अपने करियर को लेकर चयनकर्ताओं पर नाराजगी जताई थी।

By: Mazkoor

Updated: 17 May 2020, 02:19 PM IST

नई दिल्ली : भारत के दिग्गज आलराउंडर इरफान पठान (Irfan Pathan) जिस समय टीम इंडिया (Team India) से बाहर हुए, उस समय उनका प्रदर्शन खराब नहीं था। इसके अलावा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में उनका जिस तरह का रिकॉर्ड है, उसे देखते हुए तकरीबन क्रिकेट का अधिकतर जानकार और प्रशंसकों का मानना है कि वह टीम इंडिया के लिए और खेल सकते थे।

इसी साल पठान ने लिया है संन्यास

इरफान पठान ने 2012 में अपने आखिरी टेस्ट मैच में शानदार बल्लेबाजी की थी। इसके बाद उन्होंने घरेलू क्रिकेट में भी शानदार प्रदर्शन किया था। इसके बावजूद चयनकर्ताओं ने उन्हें राष्ट्रीय टीम में जगह नहीं दी। जब उन्होंने देखा कि अब टीम इंडिया में उनके लिए जगह नहीं है तो इस साल जनवरी में आखिरकार उन्होंने संन्यास ले लिया, लेकिन उनका यह दर्द रह-रह कर छलकता रहता है कि जब वह अच्छा प्रदर्शन कर रहे थे, तब उन्हें टीम इंडिया से बाहर कर दिया गया। हाल ही में जब एक प्रशंसक ने इरफान के आखिरी टेस्ट मैच का आंकड़ा शेयर किया तो यह दर्द एक बार फिर उभर आया।

प्रशंसक ने बल्लेबाजी प्रदर्शन शेयर किया

इरफान पठान के प्रशंसक ने ट्वीट कर बताया कि इरफान ने 2008 में खेले अपने अंतिम टेस्ट मैच में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए 64 नाबाद (21 नाबाद और 43 नाबाद) रन की पारियां खेलीं। इसके अलावा 2012 में श्रीलंका के खिलाफ अपने अंतिम वनडे मैच में नंबर आठ पर बल्लेबाजी करते हुए नाबाद 29 रन की पारी खेली। वहीं इसी साल ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टी-20 मैच में बतौर सलामी बल्लेबाज उन्होंने 31 रन बनाए।

पठान ने लिखा और यह आखिरी बन गया

प्रशंसक के इस ट्वीट पर इरफान पठान ने जवाब दिया है। उन्होंने लिखा कि वह भी तब जब आप एक हरफनमौला की हैसियत से खेल रहे हैं। एक टेस्ट मैच में डेल स्टेन और मोर्ने मोर्कल जैसे दिग्गज गेंदबाजों के खिलाफ नाबाद 63 रन (प्रशंसक के ट्वीट में नाबाद 64 रन) की पारी खेलते हैं तो यह आपका आखिरी गेम बन जाता है। बता दें कि यह टेस्ट मैच दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अहमदाबाद में खेला गया था। इसमें टीम इंडिया पहली पारी में महज 76 रनों पर ऑलआउट हो गई थी। इरफान पठान ने पहली पारी में शीर्ष स्कोरर रहे थे। उन्होंने पहली पारी नाबाद 21 और दूसरी पारी में नाबाद 43 रनों की पारी खेली थी। हालांकि इस टेस्ट में उन्हें 21.2 ओवर की गेंदबाजी में एक भी विकेट नहीं मिला था।

 

पहले भी पठान ने अनदेखी का लगाया था आरोप

कुछ वक्त पहले भी इंस्टाग्राम लाइव में सुरेश रैना के साथ बातचीत में इरफान पठान ने अपने करियर को लेकर चयनकर्ताओं पर नाराजगी जताई थी। उन्होंने कहा था कि चयनकर्ताओं ने उनकी इसलिए अनदेखी की थी, क्योंकि उनकी उम्र 30 को छू रही थी। चयनकर्ताओं ने इसी उम्र में उन्हें बूढ़ा बना बना दिया था।

बता दें कि इरफान पठान ने भारत की ओर से 29 टेस्ट, 120 वनडे और 24 टी-20 मैच खेले हैं। इस दरमियान उन्होंने 301 विकेट लिया है।

Show More
Mazkoor Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned