आकिब जावेद आज भी हैं सचिन की काबिलियत के मुरीद, कही ये बड़ी बात

पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज आकिब जावेद (aqib javed) ने दिग्गज भारतीय बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) के खिलाफ खेले गए अपने पुराने दिनों को एक बार फिर से याद किया है। ग्लोफैन्स के साथ फैन चैट क्यू20 से खास बातचीत के दौरान आकिब ने कहा कि मैदान पर कांटे की टक्कर के बीच जो प्रभाव तेंदुलकर ने छोड़ा है, वह उसे आज भी भुला नहीं पाए हैं.....

By: भूप सिंह

Published: 16 Nov 2020, 07:33 PM IST

नई दिल्ली। पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज आकिब जावेद (aqib javed) ने दिग्गज भारतीय बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) के खिलाफ खेले गए अपने पुराने दिनों को एक बार फिर से याद किया है। ग्लोफैन्स के साथ फैन चैट क्यू20 से खास बातचीत के दौरान आकिब (aqib javed) ने कहा कि मैदान पर कांटे की टक्कर के बीच जो प्रभाव तेंदुलकर (Tendulkar) ने छोड़ा है, वह उसे आज भी भुला नहीं पाए हैं।

कोरोना काल में आर्थिक तंगी से जूझ रहे इस क्रिकेटर को करनी पड़ी फूड डिलीवरी,वर्ल्ड कप ना खेलने पर जताया दुख

सचिन ने 31 साल पहले 15 नवंबर को पाकिस्तान के खिलाफ ही महज 16 साल की उम्र में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कदम रखा था। ग्लोफैन्स खेल के बड़े-बड़े सितारों को उनके प्रशंसकों के करीब लाने में अहम किरदार निभा रहा है। इसी के तहत ग्लोफैन्स ने आकिब जावेद से प्रशंसकों के 20 सवाल सीधे पूछे थे। सचिन का जिक्र आने पर आकिब ने दिल खोलकर अपने दौर के महान बल्लेबाज की शान में कसीदे पढ़े।

वानखेड़े में सचिन का वो विदाई भाषण, जिसने पूरे देश की आंखों को कर दिया था नम

दाएं हाथ के पूर्व तेज गेंदबाज ने सचिन की तारीफ करते हुए कहा कि वे बहुत ही प्रतिभाशाली बल्लेबाज हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि मास्टर ब्लास्टर कई वर्षो तक नंबर एक बल्लेबाज भी रहे। ग्लोफैन्स के साथ एक्सक्लूसिव बातचीत में आकिब ने सचिन के बारे में कहा, सचिन के पास जितना टैलेंट था, उन्होंने बिलकुल 100 फीसदी प्रभाव छोड़ा। वे कई साल नंबर एक खिलाड़ी भी रहे। सचिन बहुत काबिल खिलाड़ी थे।

अफगानिस्तान के कप्तान असगर अफगान ने की सगाई, पहली पत्नी से हैं 5 बच्चे

इसके अलावा एक फैन का सवाल था कि 1991 में टीम इंडिया के खिलाफ 37 रन पर 7 विकेट चटकाने के बाद आकिब से भारतीय फैंस क्यों नफरत करने लगे थे। इस पर उन्होंने जवाब देते हुए कहा, उस समय क्रिकेट के खेल में ज्यादा तकनीक नहीं थी। अम्पायर्स अपनी मर्जी से आउट दिया करते थे और जो अम्पायर्स फैसला करते थे, वह अंतिम होता था।

गौरतलब है कि 48 साल के आकिब 1989 से 1998 तक पाकिस्तान के लिए खेल चुके हैं। उन्होंने 163 वनडे मैचों में 182 और 22 टेस्ट में 54 विकेट अपने नाम किए हैं। प्रथम श्रेणी क्रिकेट में आकिब ने 121 मैचों में 358 विकेट चटकाए हैं। आकिब को 1991 में भारत के खिलाफ एक मैच में 7 विकेट झटकने के लिए भी जाना जाता है। इस दौरान उन्होंने एक हैट्रिक भी अपने नाम की थी। अपनी हैट्रिक में उन्होंने रवि शास्त्री, मोहम्मद अजहरुद्दीन और सचिन तेंदुलकर को शिकार बनाया था। ये तीनों पगबाधा आउट हुए थे।

शारजाह में खेले गए विल्स ट्रॉफी के इस फाइनल मुकाबले में पाकिस्तान ने भारत को 72 रनों से पराजित किया था। इस मैच में आकिब जावेद ने घातक गेंदबाजी करते हुए टीम इंडिया के रवि शास्त्री, नवजोत सिंह सिद्धू, संजय मांजरेकर, कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन, सचिन तेंदुलकर, कपिल देव और मनोज प्रभाकर को अपना शिकार बनाया था।

उन्होंने 10 ओवर के स्पेल में एक मेडेन डालते हुए 37 रन देकर 7 बल्लेबाजों को वापस पवेलियन की राह दिखाई थी। इस दौरान उनकी इकॉनमी 3.70 रही थी। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में आकिब ने भारत के खिलाफ शानदार प्रदर्शन करते हुए 39 वनडे मैचों में 54 विकेट अपने नाम किए हैं। ऐसे में उनका औसत 24.64 रहा है। इतना ही नहीं आकिब के नाम 6 में से 4 बार मैन ऑफ द मैच खिताब भी भारत के ही खिलाफ है।

भूप सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned