आसाराम का बचाव कर रहे थे भाजपा और कांग्रेस के ये दिग्गज नेता

आसाराम पर आज जोधपुर कोर्ट से फैसला आ चुका है। लेकिन क्या आपको पता है उसे बचाने में भाजपा और कांग्रेस के नेता जी-जान से लगे थे।

नई दिल्ली। यौन शोषण केस के आरोपी आसाराम पर जोधपुर कोर्ट में बुधवार को फैसला सुना दिया है। आसाराम रेप के आरोप में दोषी करा दिए गए हैं। लेकिन क्या आपको पता है देश की दो सबसे बड़ी पार्टी भाजपा और कांग्रेस के दिग्गज नेताओं और एक मशहूर वकील ने आसाराम को बचाने की जी-तोड़ मेहनत की थी। कांग्रेस के नेता और वरीष्ठ वकील सलमान खुर्शीद, भाजपा के नेता और वकील सुब्रमण्यम स्वामी और जाने माने वकील राम जेठमलानी ने आसाराम की पैरवी की थी।

नहीं मिली जमानत
सलमान खुर्शीद, सुब्रमण्यम स्वामी और राम जेठमलानी की लाख कोशिशों के बाद आसाराम को जमानत नहीं मिली। इन सब के बीच इस केस पर जज किस तरह से सुनवाई कर रहे हैं, इस बात का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि 31 अगस्त 2013 से जेल में बंद आसाराम हाईकोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक 12 बार जमानत लेने की कोशिश कर चुका है।

केस का ट्रायल बेहद धीमा
वहीं, आसाराम की ओर से सुप्रीम कोर्ट में यह दलील दी गई थी कि उसके केस का ट्रायल बेहद धीमी गति से चल रहा है। आसाराम कि इस शिकायत के बाद कोर्ट ने राजस्थान सरकार से सवाल भी पूछा था।

आसाराम पर आरोप
बता दें कि पीड़िता की ओर से आसाराम पर काफी गंभीर आरोप लगाए गए हैं। पीड़िता के अनुसार, आसाराम ने 15 और 16 अगस्त 2013 की रात जोधपुर के एक फार्म हाउस में उसे इलाज के बहाने बुलाया था। इसके बाद आसाराम ने उसका यौन उत्पीड़न किया। बता दें कि पीड़िता ने दिल्ली के कमलानगर थाने में 19 अगस्त 2013 को आसाराम के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी।

पोक्सो एक्ट के तहत केस दर्ज
एक समय में आध्यात्म गुरु के नाम से जाने जाने वाले आसाराम के खिलाफ पुलिस ने आईपीसी की धारा 342, 376, 354-ए, 506, 509/34, जेजे एक्ट 23 व 26 के तहत केस दर्ज किया था। साथ ही पुलिस ने 2012 में बने पोक्सो एक्ट की धारा 8 के तहत भी आसाराम पर केस दर्ज किया था।

Show More
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned