बेटों की फीस जुटाने के लिए डॉक्टर पिता ने छापे नकली नोट, पुलिस ने किया गिरफ्तार

  • देहरादून में पुलिस ने जाली नोट छापने वाले गिरोह का किया भंडाफोड
  • आरोपी के पास से 11,000 के जाली नोट बरामद
  • बेटों की फीस जुटाने के लिए छापे नकली नोट

Shiwani Singh

January, 1604:55 PM

नई दिल्ली। उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में पुलिस ने जाली नोट छापने वाले एक गिरोह का भंडाफोड़ किया है। गिरोह का सरगना आयुर्वेदिक डॉक्टर है। पुलिस की छापेमारी में आरोपी के पास से 11 हजार रुपए के जाली भारतीय नोट बरामद किए गए हैं। जाली नोट छापने के पीछे गिरफ्तार आरोपी डॉक्टर ने हैरान करने वाली मजबूरी बताई है। आरोपी ने मुताबिक उसने अपनी दोनों बेटों की फीस जुटाने के लिए ये सब किया।

यह भी पढ़ें-देवेंद्र सिंह ने किया बड़ा खुलासा, एक और अधिकारी आतंकियों के लिए करता है काम

देहरादून की पुलिस अधीक्षक श्वेता चौबे ने बताया, 'जाली नोट छापने वाले इस गिरोह के दो मास्टमाइंड विक्रम चौहान और राजेश गौतम को 17 सितंबर 2019 को गिरफ्तार किया गया था। पुलिस के मुताबिक गिरफ्तारी के दौरान आयुर्वेदिक डॉक्टर संजय शर्मा फरार हो गया था। उस वक्त राजेश गौतम और विक्रम चौहान के कब्जे से देहरादून पुलिस को करीब साढ़े छह लाख रुपए की जाली (नकली) भारतीय मुद्रा, चार प्रिंटिंग कारटेज, 16 पेज प्रिंटिंग, एक पिस्तौल मिली थी।'

एसपी सिटी देहरादून श्वेता चौबे ने बताया कि आरोपी के पास से 11 हजार रुपए के जाली नोट बरामद किए गए हैं। संजय शर्मा पेशे से आयुर्वेदिक चिकित्सक है। काफी समय से उसका क्लिनिक ठीक से नहीं चल पा रहा था। जिसके चलते उसकी माली हालत खराब होती गई।

500_rupee_4240543_835x547-m.jpg

ऊपर से घरेलू खचरें का वजन बढ़ता ही जा रहा था। ऐसे में उसने नकली नोट छापकर घर का खर्च चलाने की सोची। संजय शर्मा की इस काले कारोबार में उतरने की सबसे बड़ी मजबूरी दो बेटों की पढ़ाई का खर्च भी सामने आई है। आरोपी का सपना था कि किसी तरह से भी वो विपरीत आर्थिक हालातों में भी एक बेटे को होटल प्रबंधन और दूसरे को एलएलबी की पढ़ाई पूरी करवाकर उन्हें बेहतर भविष्य देगा।

यह भी पढ़ें-तेजस्वी का नीतीश पर हमला: कभी CAA का समर्थन तो कभी विरोध, दोहरे चरित्र के हैं धनी

इस सिलसिले में देहरादून के क्लेमेनटाउन थाने में आपराधिक मामला दर्ज किया गया है। पकड़ा गया आरोपी संजय शर्मा मकतुलपुरी, गंगनहर हरिद्वार का रहने वाला है। देहरादून एसपी सिटी श्वेता चौबे ने आगे बताया, 'आरोपी की गिरफ्तारी के लिए थाना क्लेमेनटाउन प्रभारी नरोत्तम बिष्ट के साथ सीनियर सब-इंस्पेक्टर (एसएसआई) ओमवीर सिंह, सब-इंस्पेक्टर आशीष रबियांन व सिपाही सतीश शर्मा और संजय सवाल की टीम बनाई गई थी। यह टीम काफी समय से आरोपी का पीछा कर रही थी, मगर वो हर बार पुलिस टीम को चकमा देकर निकल जा रहा था।'

Show More
Shivani Singh Content Writing
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned