महाराष्‍ट्र: गढ़चिरौली में नक्‍सलियों ने 3 की हत्‍या की, पुलिस का सर्च ऑपरेशन जारी

घटना के बाद गढ़चिरौली के जंगलों में पुलिस ने नक्‍सलियों के खिलाफ सर्च अभियान छेड़ दिया है। अभी तक पुलिस को नक्‍सलियों के बारे में कोई सुराग नहीं मिला है।

By: Dhirendra

Updated: 22 Jan 2019, 11:36 AM IST

नई दिल्‍ली। महाराष्‍ट्र के गढ़चिरौली में एक बार फिर नक्‍सलियों ने कहर बरपाने का काम किया है। गढ़चिरौली के भामरागढ़ में नक्‍सलियों ने पुलिस का मुखबिर होने के आरोप में तीन लोगों की हत्‍या कर दी है। हत्‍या की घटना को अंजाम देने के बाद नक्‍सली फरार होने में कामयाब रहे। पुलिस ने इस घटना की सूचना मिलने के बाद से गढ़चिरौली के जंगलों में नक्‍सलियों के खिलाफ सघन तलाशी अभियान छेड़ दिया है। हालांकि अभी तक पुलिस को नक्‍सलियों के बारे में कोई सुराग नहीं मिला है। नक्‍सलियों की इस कार्रवाई को नौ महीने पहले 37 नक्‍सलियों को पुलिस एनकाउंटर में मार गिराने का जवाब माना जा रहा है।

नवंबर में अजीत रे को किया था गिरफ्तार
इससे पहले नवंबर, 2018 में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गढ़चिरौली से एक बड़े नक्सली को गिरफ्तार किया जो 1992 से नक्सली गतिविधियों में शामिल रहकर बड़े पैमाने पर कारतूस लेता था और इनका प्रयोग नक्सली करते थे। इस नक्‍सली पर दो लाख का इनाम था। 48 साल के अजीत रे को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने 9 नवंबर को कई महीने की मशक्कत के बाद गिरफ्तार किया था। अजीत पर आरोप है कि वो नक्सली गतिविधियों में शामिल रहकर नक्सल ऑपरेशन के लिए बड़े पैमाने पर कारतूस के सप्लायरों से कारतूस ले रहा था, ये कारतूस छोटे हथियारों से लेकर बड़े हथियारों के हैं। पुलिस को उसके पास से 45 कारतूस भी बरामद किए थे।

मुठभेड़ में मारे गए थे 37 नक्‍सली
22 अप्रैल, 2018 को गढ़चिरौली में महाराष्ट्र पुलिस के कमांडोज के सी-60 स्क्वाड ने 37 नक्‍सलियों को मुठभेड़ में मार गिराया था। यह अभियान कई दिनों तक जारी रहा था। उस समय इस अभियान को भारी बारिश और संख्याबल में कमी के कारण रोक दिया गया था।

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned