निर्भया केस: दोषी अक्षय की पुनर्विचार याचिका पर सुप्रीम कोर्ट 17 दिसंबर को करेगा सुनवाई

  • साल 2012 के दिसंबर में हुए निर्भया गैंगरेप केस अपराधियों को फांसी लगना लगभग तय माना जा रहा है
  • हालांकि सुप्रीम कोर्ट केस के एक आरोपी की पुनर्विचार याचिका पर 17 दिसंबर दोपहर 2 बजे सुनवाई करेगा
  • दोषी अक्षय कुमार ने सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर की थी, जिस पर तीन जजों की पीठ सुनवाई करेगी

Mohit sharma

13 Dec 2019, 10:15 AM IST

नई दिल्ली। साल 2012 के दिसंबर में हुए निर्भया गैंगरेप केस अपराधियों को फांसी लगना लगभग तय माना जा रहा है।

हालांकि सुप्रीम कोर्ट केस के एक आरोपी की पुनर्विचार याचिका पर 17 दिसंबर दोपहर 2 बजे सुनवाई करेगा। दरअसल, गैंगरेप के एक दोषी अक्षय कुमार ने सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर की थी, जिस पर तीन जजों की पीठ सुनवाई करेगी।

आपको बता दें कि 7 साल पहले 16 दिसंबर की रात चलती बस में निर्भया के साथ सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई थी। शीर्ष अदालत ने चार आरोपियों को फांसी की सजा सुनाई है।

फांसी की भनक से बेहद तनाव में निर्भया के अपराधी, स्वास्थ्य में गिरावट और घटने लगा वजन

a3.png

आपको बता दें कि तिहाड़ जेल में बंद केस के एक दोषी विनय शर्मा ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को चिठ्ठी लिखकर अपनी दया याचिका को वापस लेने की मांग की है।

दोषी विनय शर्मा की ओर से वकील एपी सिंह ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर अनुरोध किया कि उनको दया याचिका वापस लेने की इजाजत दी जाए।

चिठ्ठी में यह भी लिखा गया है कि गृह मंत्रालय ने जो दया याचिका राष्ट्रपति को भेजी है, उसको विनय शर्मा को हस्ताक्षर नहीं है।

यहां तक कि विनय शर्मा के वकील ने इसे एक साजिश करार दिया है।

महाराष्ट्र: फडणवीस का खुलासा- इसलिए गए थे अजित के साथ, पवार-मोदी के बीच हुई यह बातचीत

a1.png

हैदराबाद एनकाउंटर: 'द ग्रेट खली' ने पुलिस कार्य प्रणाली पर उठाए सवाल, सरकार पर साधा निशाना

गौरतलब है कि हैदराबाद में पशु चिकित्सक दिशा की गैंगरेप के बाद हत्या और उसके दोषियों के एनकाउंटर के बाद निर्भया गैंगरेप केस एक बार फिर से चर्चा में आ गया है।

इसकी एक वजह यह भी है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने इस तरह के मामलों में दया याचिका के प्रावधान को समाप्त करने के प्रावधान का जिक्र किया था।

Show More
Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned