एसडीएम से शिकायत - जिसने दी रिश्वत उसका नाम आया सूची में

एसडीएम से शिकायत में लोगों का आरोप है कि जिन लोगों द्वारा 10 से 15 हजार तक की राशि दी गई है उनके नाम आवास सूची में फाइनल हो गए हैं। हमारे पास रिश्वत देने के लिए पैसा नहीं था इस कारण हमारा नाम सूची में नहीं रखा गया है।

By: rishi jaiswal

Published: 28 May 2020, 08:02 AM IST

पिछोर. नगर में आवास योजना में धांधली के चलते बुधवार को एक दर्जन महिलाएं एवं पुरुष नगर परिषद कार्यालय पहुंचे। इन सभी ने एसडीएम राघवेंद्र पांडे की शिकायत की। यहां पर एसडीएम भ्रमण पर पहुंचे थे। गरीबों की समस्या सुनकर एसडीएम निर्देश दिए कि जो लोग पात्र की श्रेणी में आ रहे हैं उनके नाम सूची में जोड़े जाए।

एसडीएम से मिलने पहुंची अधिकांश महिलाएं अनुसूचित जाति की थी और कुछ पुरुष आदिवासी थे। एसडीएम से शिकायत में लोगों का आरोप है कि जिन लोगों द्वारा 10 से 15 हजार तक की राशि दी गई है उनके नाम आवास सूची में फाइनल हो गए हैं। हमारे पास रिश्वत देने के लिए पैसा नहीं था इस कारण हमारा नाम सूची में नहीं रखा गया है।

विधवा महिला पार्वती वार्ड 9 का कहना था कि हमारे पास पेट भरने को पैसा नहीं है तो रिश्वत कहां से देंगे। पैसा नहीं है हमने पैसा नहीं दिया इस कारण हमारा आवास नहीं आया है।

वार्ड नं. 7 निवासी मनोज वाल्मीकि का कहना है कि मेरा कच्चा मकान है और सूची में मेरा नाम था। पटवारी और नगरपालिका कर्मचारी द्वारा मेरा आवास अपात्र कर दिया गया जबकि मैं जिस मकान रहा हूं वह खपरैल का है।

इस संबंध में एसडीएम का कहना है कि बुधवार को नगर परिषद पिछोर में लगभग एक दर्जन महिला एवं पुरुष आवास की समस्या को लेकर मिले। इसे लेकर नायब तहसीलदार आनंद गोस्वामी को सख्त निर्देश देते हुए कहा कि जो पात्र हैं उन्हें पात्र की सूची में अतिशीघ्र शामिल किया जाए । साथ ही दोबारा से जांच की जाए जिन लोगों के रिश्वत देकर नाम आए हैं उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाए।

rishi jaiswal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned