रात को तेज आंधी से मकान ढहा, बाल-बाल बचे परिजन

मौके पर राजस्व एवम पंचायत की ओर से कोई भी अधिकारी कर्मचारी पीडि़त परिवार तात्कालिक सहायता उपलब्ध कराने के लिए नहीं पहुंचा है। हल्के के पटवारी को सूचना देने के उपरांत वह मौके पर नहीं पहुंची हैं।

By: rishi jaiswal

Published: 19 Jun 2020, 09:26 AM IST

भितरवार. विकासखंड के ग्राम बसई में मंगलवार-बुधवार की रात आई तेज आंधी से एक मकान की दीवार गिरने से दो कमरों की छत टूटकर नीचे आ गई। इसमें कमरों में रखा गृहस्थी समेत अन्य सामान नष्ट हो गया । गनीमत रही कि आंधी के वक्त लाइट चली जाने के कारण घर के सभी लोग से बाहर थे। अन्यथा जनहानि हो सकती थी ।

ग्राम बसई में रहने वाले नत्थाराम बाथम (45) पुत्र बद्री बाथम के मकान की ऊपरी मंजिल की दीवार गिरने से नीचे के दो कमरों की छत टूटकर जमीन पर आ गई। इस मकान में नत्थाराम अपने तीन पुत्र बिहारी, अनिल, होतम एवं एक पुत्री मालती व परिवार के साथ निवास करते हैं। मकान के गिरने से उसके मलबे में दबकर गृहस्थी का सामान नष्ट हो गया और उक्त परिवार के पास खाने पीने के लिए भी कुछ नही बचा है। जबकि उक्त परिवार में लड़की की शादी आगामी दिनों में होने वाली है।

मौके पर राजस्व एवम पंचायत की ओर से कोई भी अधिकारी कर्मचारी पीडि़त परिवार तात्कालिक सहायता उपलब्ध कराने के लिए नहीं पहुंचा है। हल्के के पटवारी को सूचना देने के उपरांत वह मौके पर नहीं पहुंची हैं।

मकान की छत से टूटने से कमरों के अंदर रखा पीडि़त के पुत्रों की शादी में मिले अलमारी दो कूलर, दो पंखा, पलंग, टीवी इत्यादि भी टूट गए। वहीं घर में साल भर खर्च के लिए रखा 100 मन गेहूं भी मिट्टी बालू गिरने से पूरी तरह खराब हो गया। जब आंधी चली तब बिजली चली गई थी। घर के लोग उमस के चलते बाहर आ गए थे। इस वजह से किसी प्रकार की कोई जनहानी नहीं हुई।

rishi jaiswal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned