अस्पताल में बेटी जन्मी और छोड़कर भाग निकली मां, अब पुलिस कर रही तलाश

अस्पताल में बेटी जन्मी और छोड़कर भाग निकली मां, अब पुलिस कर रही तलाश
Daughter born in hospital and mother escaped, now police is searching,Daughter born in hospital and mother escaped, now police is searching

Laxmi Kant Tiwari | Updated: 12 Oct 2019, 11:07:12 PM (IST) Damoh, Damoh, Madhya Pradesh, India

पुलिस ने कहा महिला ने लिखाया फर्जी नाम व पता, तलाशने में हो रही परेशानी

 

दमोह. इस जमाने में तरह-तरह के लोग हैं। लेकिन ऐसे लोगों की संख्या बहुत की कम है, जो महिला होने के बाद गर्भधारण करती है और मां का प्यार बच्चों को देने की जगह उसे अस्पताल में देकर उसे उसके हाल पर छोड़कर चली जाती हैं। जिला अस्पताल में कुछ इसी तरह का वाक्या होने के बाद स्वयं दूसरी महिलाएं उसे कुमाता कहने से नहीं चूक रहीं हैं जिसने बेटी को जन्म दिया और अस्पताल के एसएनसीयू वार्ड में छोड़कर भाग निकलीं।
जिला अस्पताल के एसएनसीयू वार्ड में नवजात को जन्म देने के बाद प्रसूता लापता हो गई है। १० सितंबर को जिला अस्पताल में नवजात को भर्ती कराने के बाद से प्रसूता महिला को पुलिस तलाश कर रही है। लेकिन उसका कोई सुराग नहीं लग सका है।
मामले में सिविल सर्जन डॉ. ममता तिमोरी ने बताया कि १० सितंबर को एक महिला का प्रसव हुआ था। जिसने अपना नाम मैटरनिटी वार्ड में ललिता पति धर्मेंद्र अहिरवार निवासी हटा (१९) दर्ज कराया था। सुबह ११.२५ पर पूरे नौमाह के बच्चे की फुल मेच्योर्ड डिलेवरी हुई थी। लेकिन प्रसव होने के बाद नवजात बच्ची को सांस लेने में तकलीफ होने पर उसे एसएनसीयू वार्ड में भर्ती कराया गया था। लेकिन वहां पर प्रसूता का नाम ललिता पुत्री भागचंद चौधरी लिखाया गया था। जहां पर उसकी दादी ने भर्ती कराया था। दादी ने नर्सों को बताया था कि ललिता की शादी नहीं हुई है। उसके बाद दादी भी अस्पताल से लापता हो गई। तब से लेकर आज तक नवजात की देखरेख जिला अस्पताल के एसएनसीयू वार्ड में वहां पदस्थ नर्सिंग स्टॉफ द्वारा की जा रही है।
एसएनसीयू वार्ड में पदस्थ मोना सिस्टर ने बताया कि उनके साथ पूरा स्टॉफ बच्ची की तमाम आवश्यकताओं की पूर्ति कर रहा है। बच्ची पूर्र्णरूप से स्वस्थ्य हो गई है। जिसकी देखरेख के लिए स्टॉफ सहयोग कर रहा है। उसे नहाने से लेकर उसकी खुराक का पूरा खर्च किया जा रहा है। मासूम की जानकारी को लेकर एक पत्र महिला बाल विकास एवं बाल कल्याण समिति के लिए लिखा गया है। अस्पताल चौकी प्रभारी को भी पत्र लिखा गया है। लेकिन अभी तक पुलिस की तरफ से कोई जानकारी प्राप्त नहीं हुई है।
खास बात यह है कि मोना सिस्टर सहित अन्य सिस्टर्स उसे जब गोद में लेती हैं उसे अपनी मां के पास होने का अहसास होता है। जो रोते-रोते एकदम चुप हो जाती है। नवजात के अब गोदनामा की कार्रवाई चल रही है। जिससे स्टॉफ नर्स को यह लग रहा है कि उनके पास से परिवार का एक सदस्य अब दूर चला जाएगा।

जांच की जा रही है -
मामले में सिविल सर्जन का पत्र मिला था, जिसकी जांच कराई जा रही है। दरअसल मैटरनिटी वार्ड में महिला का एड्रेस हटा तथा एसएनसीयू वार्ड में नरसिंहगढ़ रखा गया है। जिससे कुछ परेशानी हो रही है।
विनोद कारौलिया-अस्पताल चौकी प्रभारी

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned