पूरे बस्तर संभाग के इस जिले ने किया एसटी-एससी एक्ट में संशोधन का विरोध, बंद रहा पूरा शहर

पूरे बस्तर संभाग के इस जिले ने किया एसटी-एससी एक्ट में संशोधन का विरोध, बंद रहा पूरा शहर

Badal Dewangan | Publish: Sep, 07 2018 12:22:26 PM (IST) Dantewada, Chhattisgarh, India

एसटी-एससी एक्ट में संशोधन का विरोध, सामान्य व ओबीसी वर्गो ने एक्ट में संशोधन एवं जातिगत आरक्षण का किया कड़ा विरोध

दंतेवाड़ा. अनुसूचित जाति एवं जनजाति एक्ट में हुए संशोधन व आरक्षण बंद करवाने की मांग को लेकर देश व्यापी बंद का दंतेवाड़ा में खासा असर देखने को मिला। गुरूवार को सर्व सवर्ण समाज ने प्रमुख बाजार सहित अपने- अपने प्रतिष्ठान को बंद कर इस मांग पर समर्थन जताया।

इसका है विरोध
जानकारों ने चर्चा में बताया कि हमारा विरोध किसी समाज या समुदाय से नहीं है बल्कि झूठी शिकायत कर आदतन प्रताडि़त करने वालों से है। ज्ञात हो कि नए संसोधन में एससी/एसटी एक्ट में शिकायत पर बिना कोई जांच के तुरंत गिरफ्तारी संभव होगी एवं उपर न्यायालय से जमानत तक नहीं मिल सकेगी। जबकि पहले जांच के बाद गिरफतारी एवं अग्रिम जमानत का प्रावधान था। एक्ट में संशोधन के बाद अब सामान्य एवं ओबीसी वर्ग के लोगों की चिंता बढ़ गई है।

जागरुक नागरिकों ने यह भी कहा
अगर सरकार को जातिगत आरक्षण देना ही है तो सामान्य एवं ओबीसी वर्ग को भी आरक्षण के दायरे में लाना होगा। आरक्षण का दंश वे सदियों से झेलते आ रहे हैं अब समय बदल गया है। सामान्य वर्ग को भी बराबर का हक मिलना चाहिए। स्वर्णो ने एक स्वर में कहा है कि अगर सरकार उनकी मांगों को नहीं मानती है तो आने वाले चुनावों में सामान्य एवं ओबीसी जाति का कोई भी वोटर किसी भी राजनैतिक दल को वोट नहीं करेगा।

दंतेवाड़ा समेत आसपास के गांव व कस्बों में बंद खासा असरकारी रहा। यहां बड़ी दुकानें नहीं खुली, यहां तक कि गुमटियों को भी बंद कर लोग सामान्य वर्ग की जायज मांग के समर्थन करते नजर आए। बंद के दौरान किसी भी तरह का विरोध व प्रदर्शन नहीं होनेे से प्रशासन ने भी राहत की सांस ली। इसके बाद सर्व सवर्ण समाज ने कलक्टर को राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन भी सौंपा।

आवश्यक सेवाओं को रखा गया मुक्त
आरक्षण बंद का लेकर बंद के समर्थन में होटल, चाय ठेला, पान ठेला तक बंद रहे। बंद से आवश्यक सेवाओं को मुक्त रखा गया था। इसके चलते मेडिकल स्टोर, पेट्रोल पंप व बस सेवाएं सुचारु जारी रहीं। फुटपाथ पर कारोबार करने वालों को भी बंद के दायरे से बाहर रखा गया था। इससे छोटे व्यवसायियों ने राहत की संांस ली।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned