खेतों में कटी फसल में भर गया बारिश का पानी


तेज हवा ने कई खेतों में बिछा दी गेहूं की फसल

Rain water filled in the harvested fields, news in hindi, mp news, datia news

By: संजय तोमर

Published: 28 Mar 2020, 05:57 PM IST

दतिया/जिगना/सेंवढ़ा/भांडेर /खूजा /बसई, शुक्रवार की देर रात से अल सुबह व फिर दोपहर में हुई बारिश से जहां तापमापी का पारा गिर गया वहीं खेतों में कटी हुई फसलों में नुकसान हो गया। खेतों में पानी में भीग जाने से उनका दाना काला पडऩे की आशंका है। इतना ही नहीं जो फसलें खड़ी हैं उनमें से सरसों, चना, मसूर , बटरा आदि में ज्यादा नुकसान है।
एक ओर जहां कोरोना संक्रमण से लोग परेशान हैं तो दुसरी ओर किसानों को बारिश ने दूसरी परेशानी में डाल दिया।गुरुवार की देर रात से शुक्रवार की सुबह तक भले ही करीब आधा मिमी बारिश दर्ज की गई है पर पानी की हर बूंद से खेतों में कटी हुई रखीं फसलों को नुकसान हुआ है। जिले में अब तक 30 फीसदी से ज्यादा फसलें खेतों में कटी हुई रखी हैं। उनके जो भी पौधे गीली मिट्टी व पानी के संपर्क में हैं उनका दाना काला पड़ जाएगा। किसानों के मुताबिक इससे भारी नुकसान हुआ है। शुक्रवार की अल सुबह से पहले तो करीब तीन घंटे तक सेंवढ़ा, थरेट व आसपास के इलाकों में तो जिगना , उदगवां, बिलौनी , पलोथर , डांग करेंरा समेत सभी गांवों में रिमझिम बारिश हुई। इतना ही नहीं बसई , बरधुआं , सतलौन आदि गावों में व भांडे र क्षेत्र के सालोन बी, खूजा,पंडोखर, गोंदन , बड़ेरा सोुपान, सोहन , तालगांव , उड़ी ,चांदनी , सोजना खिरिया , धौड़, पडऱी में हुई हल्की बारिश होने से फसलों को नुकसान हुआ है। इतना ही नहीं बारिश से तापमापी का पारा नीचे चला गया। अधिकतर पारा जो गुरुवार को 34 डिग्री पर था वह शुक्रवार को 20.7 डिग्री तक पहुंच गया। यानी एक ही दिन में करीब 13 डिग्री की कमी आ गई। वहीं न्यूनतम पारे में डेढ़ डिग्री की कमी आई है। हालांकि आंकड़ों के मुताबिक जिले में केवल 0.6 मिमी बारिश दर्ज की गई है।

इल्ली की आशंका
खेत या खलियानों में रखे गेंहूं की फसल में नुकसान तो हुआ ही है। खेतों में खड़े चना, मसूर, सरसों, बटरा समेत मोटे अनाज में ज्यादा नुकसान हुआ है।किसान पंजाब सिंह, बनमाली मिश्रा ने बताया, चने में इल्ली लगने की आशंका है। जबकि अन्य फसलों का दाना काला पड़ जाएगा। उप संचालक कृषि आरएन शर्मा ने बताया, बारिश ज्यादा नहीं हुई फिर भी खेतों में रखी फसलों को कुछ नुकसान हो सकता है। गेहूं की खड़ी फसल में नुकसान की कम आशंका है। फील्ड स्टाफ से सर्वे कराया जाएगा।

संजय तोमर Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned