गुस्साए किसानों ने क्यों लगाया सडक़ पर जाम

गुस्साए किसानों ने क्यों लगाया सडक़ पर जाम

Sanjay Singh Tomar | Updated: 12 Jun 2019, 10:30:00 AM (IST) Datia, Datia, Madhya Pradesh, India

व्यापारी अपनी परेशानी के चलते थे परेशान, डाक बोली नहीं लगाई

 

दतिया. मंडी में व्यापारियों ने सोमवार को डाक बोली लगाने से इंकार कर दिया तो गुस्साए किसानों ने सडक़ पर जाम लगा दिया। किसानों ने डाक बोली कराने को लेकर दो बार जाम लगाया। मौके पर पहुंचे एसडीएम ने व्यापारियों की बात सुन कर उनकी शर्तें मानीं तब डाक बोली शुरू हो सकी।

शनिवार और रविवार को अवकाश होने से मंडी बंद थी। मंडी में अवकाश होने के कारण डाक बोली नहीं हो रही थी। शनिवार को जो किसान मंडी में माल लेकर पहुंचे उन्हें रविवार को भी डाक बोली का इंतजार करना पड़ा। सोमवार को व्यापारियों ने अपनी मांगों को लेकर डाक बोली से इंकार कर दिया। इससे किसान नाराज हो गए। नाराज किसानों ने मंडी गेट के बाहर मुख्य मार्ग पर जाम लगा दिया। मौके पर पहुंचे एसडीएम ने किसानों को व्यापारियों से बात कर डाक बोली कराने का आश्वासन दिया तो किसानों ने जाम लगा दिया। इसके बाद एसडीएम ने व्यापारियों के प्रतिनिधि मंडल से बात की।

किसानों ने दोबारा लगाया जाम
एसडीएम व्यापारियों के प्रतिनिधि मंडल से बंद कमरे में चर्चा कर रहे थे। बंद कमरे में व्यापारियों और एसडीएम के बीच काफी लंबी चर्चा चली। चर्चा के दौरान किसी को अंदर नहीं जाने दिया गया। यहां तक कि मीडिया कर्मियों को भी कमरे के अंदर प्रवेश से रोका गया। काफी समय तक जब किसान और एसडीएम बाहर नहीं आए तो किसानों ने फिर मुख्य मार्ग पर जाम लगा दिया। इसके बाद मौके पर पहुंची टी आई सिविल लाइन प्रीति भार्गव ने किसानों को समझा कर जाम खुलवाया।

इसलिए नाराज थे व्यापारी
व्यापारियों का कहना था कि उन्हें मंडी प्रशासन द्वारा परेशान किया जा रहा है। रैक के लिए उनकी गाड़ी भरने के बाद उसी दिन गेट पास न बना कर अगले दिन गेट पास बनाने के लिए कहा जाता है। इसके अलावा व्यापारियों से कहा जाता है कि गाड़ी गोदाम से भर कर गेट पास बनवाने के लिए मंडी लाओ। मंडी लाने तक रास्ते में गाड़ी पकड़ ली जाती है और कागजात की मांग की जाती है। एक व्यापारी की गाड़ी गेट पास के लिए मंडी तक लाने के दौरान पैनल्टी बना दी गई। व्यापारियों ने यह भी बताया कि शनिवार को पुलिस वाले गाडिय़ों को पीतांबरा पीठ पर श्रद्धालुओं की भीड़ की वजह से गाड़ी नहीं निकलने दी जाती। इससे गेट पास नहीं बन पाता। व्यापारी पर पैनल्टी लगाए जाने और मंडी प्रशासन द्वारा गेट पास के नाम पर परेशान किए जाने से नाराज व्यापारियों ने डाक बोली करने से इंकार कर दिया।

समस्या का यह निकला हल
व्यापारियों ने जब अपनी समस्या एसडीएम मनोज प्रजापति के समक्ष रखी तो उन्होने व्यापारियों को आश्वासन दिया कि गेट पास के नाम पर व्यापारियों को परेशान नहीं किया जाएगा। गोदाम से मंडी तक गाड़ी गेट पास के लिए आने पर उसे रास्ते में कागजात दिखाने के नाम पर नहीं पकड़ा जाएगा और शनिवार को व्यापारियों के गोदाम पर एक कर्मचारी गाड़ी को बैरीफाई करेगा।

किसानों ने इस वजह से लगाया जाम
शनिवार और रविवार को अवकाश होने तथा सोमवार को व्यापारियों द्वारा डाक बोली न लगाए जाने से किसान नाराज हो गए। किसानों का कहना था कि मंडी में न तो पीने के पानी व्यवस्था हैऔर न ही छाया की। जाम लगाने वाले किसानों की मांग थी कि मंडी में छाया, पानी की व्यवस्था की जाए तथा व्यापारियों द्वारा उनकी उपज का सही दाम देकर तत्काल नगद भुगतान किया जाए। एसडीएम द्वारा किसानों को डाक बोली कराए जाने और अन्य समस्याओं का निराकरण किए जाने का आश्वासन देने के बाद किसान मान गए और डाक बोली शुरू हुई। हंगामे के कारण डाक बोली एक बजे चालू हो सकी।

व्यापारी अपनी कुछ बातें रखना चाहते थे। व्यापारियों की बात सुन ली है और उनका निराकरण कर दिया है। मंडी में किसानों को पीने के पानी सहित सभी व्यवस्थाएं सही चल रहीं हैं। किसानों को कोई समस्या नहीं आने दी जाएगी
मनोज प्रजापति एसडीएम

मंडी प्रशासन द्वारा व्यापारियों को समस्या खड़ी की जा रही थी। इस बजह से व्यापारियों ने डाक बोली लगाने से इंकार कर दिया। व्यापारियों की मांग मान ली गई है उन्हें परेशान नहीं होने देंगे।
सिल्लन साहू व्यापारी

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned