ममता भूपेश ने 19.98 लाख तो मुरारी लाल ने 5.67 लाख दिखाया खर्चा

ममता भूपेश ने 19.98 लाख तो मुरारी लाल ने 5.67 लाख दिखाया खर्चा

Gaurav Kumar Khandelwal | Publish: Dec, 09 2018 08:38:04 AM (IST) Dausa, Dausa, Rajasthan, India

https://www.patrika.com/rajasthan-news/

दौसा. राजस्थान विधानसभा चुनाव में दौसा जिले की सभी विधानसभा सीटों पर चुनावी मैदान कूदे प्रत्याशियों ने पानी की तरह पैसा बहाया, लेकिन जब बात रिकॉर्ड की करें तो उन्होंने निर्वाचन विभाग में इतना खर्चा बताया जिसको देख व सुन कर एक बार तो विश्वास नहीं होता, लेकिन हकीकत यही है। हालांकि अभी तक कई प्रत्याशियों ने पूरा चुनाव खर्च का हिसाब पेश नहीं किया, लेकिन पेश किया गया खर्च भी ऊंट के मुंह में जीरे के समान बताया है। गौरतलब है कि निर्वाचन आयोग ने विधानसभा चुनाव के लिए प्रति प्रत्याशी 28 लाख रुपए खर्च सीमा निर्धारित कर रखी है।

 


इन उम्मीदवारों ने इतना बताया खर्च


जिले की दौसा विधानसभा सीट पर मुख्य रूप से तीन प्रत्याशियों में टक्कर रही। इनमें से भाजपा प्रत्याशी शंकरलाल शर्मा के चुनाव खर्च की बात की जाए तो उन्होंने 4 दिसम्बर को खर्चा पेश किया, वह मात्र 3 लाख 76 हजार 700 रुपए हैं। जबकि कांग्रेस प्रत्याशी मुरारीलाल मीना ने भी मात्र 5 लाख 67 हजार 322 रुपयों में चुनाव लड़ लिया। यही नहीं भाजपा के बागी और निर्दलीय प्रत्याशी नन्दलाल बंशीवाल ने मात्र 3 लाख 6 हजार 836 रुपए ही खर्च किए।

 

 

बांदीकुई भाजपा प्रत्याशी रामकिशोर सैनी ने मात्र 7 लाख 20 हजार 996 रुपए खर्च किए। वहीं कांग्रेस के गजराज खटाणा ने 28 नवम्बर तक का खर्चा मात्र 1 लाख 76 हजार 817 रुपए का खर्च पेश किया है। बसपा के भागचन्द टाकड़ा 3 दिसम्बर तक राशि 3 लाख 59 हजार 508 रुपए है। लालसोट विधानसभा सीट पर भाजपा के रामबिलास मीना ने 4 दिसम्बर को निर्वाचन आयोग के पास 13 लाख 23 हजार 571 रुपए का खर्चे का ब्योरा पेश किया है।

 

जबकि कांग्रेस प्रत्याशी परसादीलाल मीना ने अपने चुनाव में 3 दिसम्बर को जो ब्योरा पेश किया, वह खर्च राशि 9 लाख 50 हजार 216 रुपए है। इसी प्रकार सिकराय विधानसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी ममता भूपेश ने 19 लाख 98 हजार 251 रुपए एवं भाजपा प्रत्याशी विक्रम बंशीवाल ने 4 लाख 76 हजार 744 रुपए में चुनाव लड़ लिया।

 


निर्दलियों ने भी किए लाखों रुपए खर्च


दौसा विधानसभा सीट पर यदि चुनाव खर्च की बात की तो भारत वाहिनी एवं आम आदमी पार्टी प्रत्याशी भी पीछे नहीं है। यहां भारत वाहिनी के प्रत्याशी देवीसिंह ने 7 लाख 93 हजार 907 रुपए खर्चे का ब्योरा पेश किया है। जबकि आम आदमी पार्टी प्रत्याशी वीरेन्द्र कुमार शर्मा ने भी 6 लाख 72 हजार 841 रुपए खर्च कर दिए। बसपा प्रत्याशी गोपाललाल मीना ने 1 लाख 60 हजार 206 रुपए खर्च किए। इधर निर्दलीय गोपीरमन शर्मा ने भी अपने चुनाव में 50 हजार 398 रुपए, दिनेश मीना ने 81 हजार 135 रुपए तथा जगराम सैनी ने 86 हजार 600 रुपए खर्च करने की जानकारी प्रस्तुत की है।

 

 

दिन-रात चली कारें, कार्यालयों पर लंगर


चुनाव में कूदे कई प्रत्याशियों ने पानी की तरह पैसा खर्च किया। कई प्रत्याशियों के साथ गाडिय़ों का काफिला चला। कई चुनावी सभाएं आयोजित की गई। उनके कार्यालयों पर दिन-रात चाय-कॉफी व खाने के लंगर चले। यहां तक कि कई प्रत्याशियों ने अन्य मद में भी पैसा खर्च किया, लेकिन इन प्रत्याशियों ने निर्वाचन विभाग के पास जो खर्च पेश किया उसको देख कर लग रहा है कि चुनाव लडऩा खर्चीला नहीं है।

 


इससे अधिक राशि तो सरपंच चुनाव में हो जाती है खर्च : भले ही प्रत्याशियों ने विधानसभा चुनाव में अपना खर्च इतना कम पेश किया, लेकिन सच्चाई यह है कि इन प्रत्याशियों ने जितना खर्च बताया है, उससे अधिक खर्च तो गांव में सरपंच पद के चुनाव में हो जाता है। हालांकि सरपंच चुनाव में कोई सीमा तय नहीं होती है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned