आग की अफवाह से अस्पताल में मची अफरा-तफरी

- बैड छोडकऱ जान बचाने दौड़े मरीज

महुवा. कस्बा स्थित सामुदायिक अस्पताल में आग लगने की झूठी अफवाह से अस्पताल परिसर सहित कस्बे में अफरा-तफरी मच गई। इस दौरान अस्पताल में भर्ती दर्जनों मरीज अपने बैड छोड़ कर जान बचाने के लिए दौड़ पड़े। सूचना पर थाना पुलिस व नगर पालिका की दमकल भी मौके भी पहुंच गई।
जानकारी के अनुसार सामुदायिक अस्पताल परिसर इमरजेंसी वार्ड में एक मरीज को उपचार के दौरान ऑक्सीजन लगी हुई थी। इस दौरान परिजनों का धक्का लगने से ऑक्सीजन का सिलेण्डर नीचे गिर गया। इससे ऑक्सीजन सिलेण्डर से नली हटने के कारण गैस का रिसाव होने की आवाज को सुन कर वहां मौजूद लोगों में हडक़म्प मच गया और उन्हे लगा कि सिलेण्डर फट जाएगा और इससे वहां आग लग जाएगी। उन्होंने सिलेण्डर को वार्ड से उठाकर बाहर फैंक दिया और जोर - जोर से चिल्लाने लगे। इस दौरान अस्पताल परिसर में आग लगने की झूठी अफवाह फैल गई। इससे वार्ड में भर्ती मरीज व उनके परिजन अस्पताल के वाडऱ्ो से अपनी जान बचाने के लिए दौड पड़े।
गौरतलब है कि सोमवार को अस्पताल परिसर में नसबंदी शिविर भी लगा हुआ था। इस दौरान वहां भर्ती महिलाएं और उनके परिजन की जान बचाने के लिए वहां से दौड़ पड़े। जिसके चलते अस्पताल में अफरा-तफरी मच गई। इस दौरान अस्पताल परिसर में मौजूद मरीज व परिजन जान बचाने के लिए अपना सामान, चप्पल व जूते सहित अन्य सामग्री वहीं छोडकऱ भाग निकले। हालाकि एक नर्सिंगकर्मी ने तुरंत सिलेण्डर का रैगुलेटर बंद कर दिया। लेकिन तब तक लोगों में आग लगने की अफवाह फैल चुक थी। अफवाह के बाद अस्पताल परिसर में सैकड़ों लोगों की भीड़ जमा हो गई। मौके पर पहुंचे थाना प्रभारी करणसिंह राठौड़ व पुलिसकर्मियों ने लोगों को समझाइश की और झूठी अफवाह को फैलने से रोका। वहीं सूचना पर नगरपालिका अधिशासी अधिकारी तेजराम मीणा भी दमकल के साथ अस्पताल पंहुचे ।

Rajendra Jain Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned