देवररिया से कांग्रेस प्रत्याशी नियाज रह लड़ चुके हैं बसपा से भाजपा के इस दिग्गज के खिलाफ

Loksabha election 2019

कांग्रेस ने प्रत्याशियों की एक और सूची जारी की है। इस लिस्ट में देवरिया संसदीय सीट पर भी प्रत्याशी का ऐलान कर दिया गया है। बहुजन समाज पार्टी से कांग्रेस में आए नियाज अहमद को कांग्रेस ने इस बार प्रत्याशी बनाया है। कांग्रेस ने 2012 में नियाज का पथरदेवा विधानसभा क्षेत्र से टिकट काट दिया था तो उन्होंने बसपा का दामन थाम लिया था, अब बसपा ने टिकट काटा है तो वह कांग्रेस में आ गए हैं।

लड़ चुके हैं कर्इ चुनाव

कारोबारी नियाज अहमद का राजनीतिक सफर 2010 में शुरू हुआ था। वह कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में 2010 में देवरिया-कुशीनगर स्थानीय निकाय एमएलसी चुनाव लड़े थे। इस चुनाव में बसपा के प्रत्याशी रामू द्विवेदी उर्फ संजीव द्विवेदी विजयी हुए थे। 2012 में हुए विधानसभा चुनाव में भी कांग्रेस ने नियाज अहमद पर भरोसा जताया। उनको पथरदेवा से प्रत्याशी बनाया लेकिन ऐलान के बाद उनका टिकट काट दिया गया। कांग्रेस से टिकट कटने के बाद नियाज बागी होकर चुनाव मैदान में उतरे लेकिन सफल नहीं हुए। विधानसभा चुनाव के बाद नियाज ने बसपा का दामन थाम लिया। बहुजन समाज पार्टी ने 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में उनको देवरिया संसदीय सीट से प्रत्याशी बनाया। भाजपा के दिग्गज कलराज मिश्र के खिलाफ नियाज चुनाव लड़े। इस चुनाव में बसपा प्रत्याशी नियाज अहमद को 231114 वोट मिले। 496500 वोट पाकर कलराज मिश्र देवरिया से सांसद बने। नियाज अहमद इसके बाद लगातार बसपा में सक्रिय रहे। लोकसभा चुनाव के ऐन वक्त पहले बसपा ने नियाज अहमद का टिकट काट दिया। टिकट कटने के बाद नियाज ने कांग्रेस का दामन फिर से थाम लिया। गुरुवार को कांग्रेस ने उनको देवरिया संसदीय सीट पर प्रत्याशी बना दिया।

Congress
Show More
धीरेन्द्र विक्रमादित्य
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned