भावांतर योजना किसानों के साथ खुली लूट

भावांतर योजना किसानों के साथ खुली लूट

amit mandloi | Publish: Sep, 03 2018 12:24:18 PM (IST) Dewas, Madhya Pradesh, India

- सतवास से रवाना हुई किसान अधिकार यात्रा

सतवास. प्रदेश की शिवराज सरकार द्वारा किसानों के लिए लागू की गई भावांतर योजना लूट की योजना हैं, किसानों के हित में प्रदेश सरकार ने कोई कदम नहीं उठाया हैं। भावांतर योजना में भाव कम हो जाने से किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ता हैं। वही देश की मोदी सरकार ने सरकार आने के बाद मात्र 22 दिनो में 2 लाख 72 हजार करोड़ रुपए पूंजीपतियों के माफ कर दिए, जबकि किसानों की न तो कर्जा माफी की और न ही उन्हें फसलों का वाजिब दाम दिलाया। तुअर,मक्का,कपास आदि फसलों के दाम कम कर किसानों को आत्महत्या के लिए मजबूर कर दिया। मोदी सरकार ने किसान विरोधी 28 निर्णय लिए, जिसमें भूमि अधिग्रहण बिल को किसानों के व्यापक विरोध के चलते वापस लेना पड़ा। देश में गन्ना उत्पादक किसानों को उनकी फसल का दाम नहीं मिल रहा और दुश्मन देश पाकिस्तान से 40 लाख मैट्रिक टन चीनी मंगाकर देशभक्तों को उस शकर की मिठास पिला रहे हैं। यह बात भारतीय राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ के अध्यक्ष शिवकुमार शर्मा उर्फ कक्काजी ने रविवार को किसान अधिकार यात्रा के सतवास से प्रस्थान के दौरान उपस्थित किसानों को बताई। उन्होंने बताया कि यह अन्नदाता अधिकार यात्रा पूर्णत: गैर राजनीतिक यात्रा हैं और इसे देश के 182 किसान संगठनों का समर्थन प्राप्त हैं। प्रदेश के हर जिले व ब्लॉक मुख्यालय से होकर आगामी 28 सितम्बर को भोपाल पहुंचेगी जहां देशभर के किसानों का महाकुंभ होगा जिसमें लाखों किसान शामिल होंगे। अध्यक्ष शिवकुमार शर्मा ने बताया कि कोई भी राजनीतिक दल किसान हितेषी नहीं हैं इसलिए हर पांच सालों में सरकार बदलना चाहिए। मप्र में 15 सालो से एक ही पार्टी की सरकार और अब इसे किसान बदलने की मानसिकता बना चुका हैं। उन्होंने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि घोषणा पत्र में इन्होंने किसानों को डेढ़ गुना लाभ दिलाने का वादा किया था किन्तु यह केवल कागजी साबित हुआ। सीएम शिवराजसिंह चौहान नें 6500 घोषणाएं की हैं लेकिन इसमें कोई पूरी नही की। यह सरकार घोटालों की सरकार हैं और इसमें किसान सतत कर्जदार होता गया। इस दौरान संघ के प्रदेशाध्यक्ष देवनारायण पटेल,त्रिलोक गोठी,गंभीर पटेल, श्याम पटेल,ओम सारण,पवन पटेल,अजीज खान,विनोद गुर्जर,अनिल थोरी,बालकराम गुर्जर,लक्ष्मण पटेल,कपिल दुक्तावा,नीरज छाबा,वकील खान सहित बड़ी संख्या में किसान उपस्थित थे।
किसान नेताओं को मिला दायित्व
भारतीय राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ के अध्यक्ष शिवकुमार शर्मा उर्फ कक्का जी ने अमीना पटेल डेहरिया को नारीशक्ति इकाई की जिलाध्यक्ष, घनश्याम पटेल निमलाय को जिला उपाध्यक्ष, श्याम पटेल झार्बाया को युवा इकाई जिला उपाध्यक्ष,ओम सारण पोखर को तहसील अध्यक्ष सतवास तथा जगदीश गोदारा मेंहदूल को तहसील संयोजक नियुक्त किया।
चापड़ा. राष्ट्रीय किसान मजदूर महासंघ द्वारा प्रदेश में निकाली जा रही है अन्नदाता अधिकार यात्रा रविवार के दिन चापड़ा पहुंची, जहां पर किसानों द्वारा यात्रा का स्वागत किया गया। अन्नदाता अधिकार यात्रा 15 अगस्त को मंदसौर से प्रारंभ हुई थी, जो कि अन्य क्षेत्र का भ्रमण करते हुए रविवार बागली होते हुए चापड़ा चौराह पर पहुंची। जहां पर यात्रा के साथ चल रहे राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवकुमार कक्काजी का स्वागत किया गया। यात्रा प्रदेश के संपूर्ण 51 जिलों में 75 दिनों में 7000 हजार किमी का सफर तय करेगी।
महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवकुमार कक्काजी ने कहा की किसानों के हक के लिए यह यात्रा निकाली जा रही हैं। कक्का जी ने बताया कि यात्रा का उद्देश्य यह है कि किसानों को उनकी उपज की लागत का डेढ़ गुना दिया जाए, देश के सभी किसानों के सभी प्रकार के ऋण से मुक्त किया जाए व किसानों की आय सुनिश्चित की जाए। इसी प्रकार यात्रा के माध्यम से सरकार पर 8 बिंदुओं की किसान हितैषी मांग की जा रही है। कक्काजी ने कहा की सरकार ने किसानों के साथ वादा खिलाफी की हैं। किसानों को फसल की लागत से डेढ़ से दो गुना देने का वादा किया था, लेकिन आज तक किसानों को फसल की लागत का डेढ़ गुना भी नहीं मिल पाया हैं।
कक्का जी ने कहा की किसान आंदोलन के दौरान किसानों के खिलाफ दर्ज किए गए प्रकरण यदि चुनाव से पहले सरकार वापस नहीं लेती हैं, तो इस बार सरकार बदल देंगे। यात्रा में बड़ी संख्या में चार पहिया वाहन शामिल थे, जिसमें अलग-अलग कार्टून के फ्लेक्स लग हुए थे। इस अवसर पर मालवा निमाण प्रांत अध्यक्ष त्रिलोक गोठी, जिला अध्यक्ष मानसिंग कोठारी यात्रा में शामिल थे। कमल मस्कोले, रघुनाथसिंह चौहान, अनारसिंह सेंधव सहित गुराडियाकलां, अवल्दा अवल्दी, चापड़ा के किसान उपस्थित थे।
फोटो-0329- किसानों से चर्चा करते अध्यक्ष शिवकुमार शर्मा कक्काजी।

Ad Block is Banned