नशे में धुत्त होकर युवक की कर दी थी हत्या, आक्रोशित होकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन

Deepak Sahu

Publish: Jul, 13 2018 02:36:35 PM (IST) | Updated: Jul, 13 2018 02:36:36 PM (IST)

Dhamtari, Chhattisgarh, India
नशे में धुत्त होकर युवक की कर दी थी हत्या, आक्रोशित होकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन

दो युवकों ने शराब दुकान में दिनदहाड़े चाकू मारकर हत्या कर दी जिससे कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने धरना-प्रदर्शन किया

धमतरी. छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले में तीन दिनों पहले शहर के वार्ड क्रमांक-5 निवासी नगर पंचायत कर्मचारी गिरधर दीवान (26) की दो युवकों ने शराब दुकान में दिनदहाड़े चाकू मारकर हत्या कर दी। इस घटना ने कुरूद वासियों को इतना झकझोर कर रख दिया है कि वे नशे के कारोबार के खिलाफ सडक़ में उतर आए है।

गुरूवार को कांग्रेसजनों ने धरना-प्रदर्शन कर अपना आक्रोश व्यक्त करते हुए पुराना बाजार चौक में धरना सभा आयोजित किया, जिसमें सैकड़ों की संख्या में आम नागरिक जुटे। उन्होंने सीधा आरोप लगाया कि सत्ता के संरक्षण में ही यहां नशे का कारोबार चल रहा है। अवैध शराब, सट्टा, जुआ जैसी सामाजिक बुराई अपनी चरम सीमा पर है। पुलिस भी चाहकर कुछ नहीं कर पा रही।

READ MORE: शराब के नशे में धुत्त होकर दो युवकों ने किया ये काम, जब होश आया तो...

निष्पक्ष जांच की मांग को लेकर किया घेराव
धरना सभा के बाद नागरिकों ने मृत युवक गिरधर दीवान उर्फ गब्बर हत्याकांड की निष्पक्ष जांच की मांग को लेकर थाने का घेराव कर दिया। पुलिस ने बेरिकेट्स लगाकर उन्हें रोकने का प्रयास किया। इस बीच झुमा-झटकी भी हुई। काफी देर तक तनाव की स्थिति बनी रही। प्रदर्शनकारियों में पूर्व विधायक डा. चन्द्रहास साहू, युवा नेता रजत चन्द्राकर, राजकुमारी दीवान, संध्या कश्यप, देवव्रत साहू, डा. मुकेश कोसरे, बसंत साहू, रामेश्वर साहू, मनोज अग्रवाल समेत पीडि़त परिवार के परिजन, वार्डवासी बड़ी संख्या में कार्यकर्ता शामिल थे।

जमकर गरजे नेता
पूर्व विधायक लेखराम साहू, वरिष्ठ नेता भरत नाहर, नीलम चन्द्राकर ने कहा कि सत्ता के केन्द्र बने एक व्यक्ति विशेष के दबाव के चलते नगर में प्रशासनिक ढांचा चरमरा गया है। आम नागरिकों पर आतंक बढ़ गया है। पूरे कुरूद में आपातकाल की स्थिति पैदा हो गई है। यहां राजनीतिक विरोधियों को चुन-चुनकर प्रताडि़त किया जा रहा है। मुख्यमंत्री से उन्होंने तत्काल हस्तक्षेप करने की मांग की है।

चल रहा भयतंत्र
प्रदर्शन के बाद कांग्रेस ने राज्यपाल के नाम तहसीलदार, एसडीएम और थानेदार को ज्ञापन सौंपा, जिसमें स्पष्ट रूप से कहा गया है कि कुरूद में सत्ता के दबाव में आकर प्रशासन काम कर रहा है। हर मामले में अडंगे के चलते यहां पुलिस अपना काम नहीं कर पा रही है। इससे आज शहर में अराजकता की स्थिति है। राज्य सरकार से तत्काल हस्तक्षेप कर कुरूद में भयतंत्र को समाप्त कर संवैधानिक मूल्यों के तहत कानून तंत्र लाने की मांग की गई।

Ad Block is Banned