मुनाफाखोरों पर चला प्रशासन का डण्डा, कलक्टर की मॉनिटरिंग में हुआ ऑपरेशन

राजाखेड़ा. राजस्थान पत्रिका में 15 मई को ‘मामूली जुर्माने पर कानून तोड़ रहे व्यापारी’ शीर्षक से खबर प्रकाशित होते ही प्रशासन हरकत में आ गया। जिला कलक्टर राकेश जायसवाल के निर्देशों पर उपखण्डाधिकारी ब्रजेश मंगल, थानाधिकारी नेकीराम, तहसीलदार रामखिलाड़ी भारी पुलिस बल के साथ बाजारों में पहुंचे

By: Naresh

Published: 15 May 2021, 09:53 PM IST

मुनाफाखोरों पर चला प्रशासन का डण्डा, कलक्टर की मॉनिटरिंग में हुआ ऑपरेशन
व्यापारियों के घरों में हुई जांच

राजाखेड़ा. राजस्थान पत्रिका में 15 मई को ‘मामूली जुर्माने पर कानून तोड़ रहे व्यापारी’ शीर्षक से खबर प्रकाशित होते ही प्रशासन हरकत में आ गया। जिला कलक्टर राकेश जायसवाल के निर्देशों पर उपखण्डाधिकारी ब्रजेश मंगल, थानाधिकारी नेकीराम, तहसीलदार रामखिलाड़ी भारी पुलिस बल के साथ बाजारों में पहुंचे और व्यापारियों के प्रतिष्ठानों की सीलिंग की जांच शुरू कर दी। इससे बाजारों में हडक़ंप मच गया और व्यापारी एकत्रित होने लगे, लेकिन थानाधिकारी नेकीराम के कड़े तेवरों के बाद व्यापारी भी सहयोग करने लगे और टूटी या क्षतिग्रस्त सील वाली दुकानों पर कार्यवाही आरम्भ कर दी गई। जिसके बाद इसे व्यापारियों के घरों पर भी सर्च आरम्भ की गई। जिनके द्वारा घरों से सामान बिक्री की पुख्ता शिकायतें प्राप्त हो रही थी।
क्या था मामला
राजाखेड़ा उपखंड मुख्यालय पर मुख्य बाजारों में व्यापारी 10 मई को घोषित सख्त लॉकडाउन के बाद गैर अनुमत दूकानों को भी चोरी छिपे खोल रहे थे। जिससे कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ता जा रहा था। सारे प्रकरण में जिला कलक्टर ने आदेश जारी कर सभी गैर अनुमत दुकानों पर सील लगवा कर लॉकडाउन की अवधि तक के लिए बंद करवा दिया था। लेकिन मुनाफाखोर व्यापारी अपने घरों में स्थित दुकानों से ही खतरनाक माहौल में व्यापार आरम्भ कर दिया। जब गोदामों में माल खत्म हो गया तो व्यापारियों ने चोरी छिपे अर्धरात्रि में दुकानों के तालों पर लगी सीलों को तोडकऱ इनका माल भी घरों पर पहुंचा दिया। फिर उसकी बिक्री भी घरों से आरम्भ कर दी गई। जिसके रात्रि काल में सीलों को तोड़ते हुए वीडियो भी वायरल हो गए।
इनके विरुद्ध हुई कार्रवाई

थानाधिकारी नेकीराम ने बताया कि शनिवार को पवन गारमेंट्स में 6 दुकानें, डॉली पुत्र महेश चंद, प्रमोद बर्तन वाले, गुप्ता गारमेंट्स, उपासना गारमेंट्स, पहाडिय़ा बर्तन भंडार, आदिनाथ एंपोरियम, कुलदीपक वस्त्र भंडार, आमिर रेडीमेड, सोनू शूज, दीपक रेडीमेड पर कार्यवाही की गई। जिनसे प्रत्येक से 11 हजार जुर्माना वसूला गया। जबकि प्रशासनिक दस्ता देर शाम तक कार्यवाही में जुटा हुआ था।

विरोध का प्रयास
कार्यवाही के दौरान कुछ व्यापारी नेताओं और पूर्व नगर पालिकाध्यक्ष रमेश चंद सोनी ने कार्यवाही को गलत बताते हुए इसका विरोध किया और जिला कलक्टर से बात की, लेकिन कलक्टर ने उन्हें कहा कि इस समय गंभीर हालात है और नियम विरुद्ध कार्य करने वाले व्यापारियों के विरुद्ध पर्याप्त सबूत है। ऐसे में अभी शास्ति की कार्यवाही ही की जा रही है। अगर कोई नियम तोड़ेगा तो मुकदमा भी दर्ज किया जाएगा। जिसके बाद थानाधिकारी नेकीराम ने व्यापारियों को चेतावनी देते हुए कार्यवाही को घरों से सामान बेचने वालों की तलाश भी आरम्भ कर दी, जो देर शाम तक जारी थी।
कलक्टर ने संभाला मोर्चा
राजाखेड़ा क्षेत्र में महामारी अनुशासन पखवाड़े के दौरान गैर अनुमत श्रेणी की दुकानें सील होने के बावजूद व्यापारियों द्वारा घरों पर स्थित गोदामों से बिक्री किए जाने की बार-बार सूचना मिलने पर जिला कलक्टर राकेश कुमार जायसवाल द्वारा मामले को गंभीरता से लेते हुए स्थानीय प्रशासन को तत्काल कार्यवाही करने का निर्देश दिए। सीलिंग तथा जुर्माने की कार्यवाही करवायी गई। पूरे दिन चली कार्यवाही में जायसवाल लगातार मॉनिटर कर दिशा निर्देश देते रहे।
जिला कलक्टर ने बताया कि राजाखेड़ा क्षेत्र में व्यापारियों द्वारा घरों में स्थित गोदामों से बिक्री की जा रही थी। इस पर प्रभावी कार्यवाही करते हुए उपखण्ड अधिकारी ब्रजेश मंगल को मौके पर घरों की तलाशी के लिए निर्देश दिए। कहा कि इस प्रकार चोरी छिपे दुकानदारी करने वाले लोगों पर कड़ी कार्यवाही की जाएगी। कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने पर महामारी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर गिरफ्तारी की कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने आमजन से अपील की है कि सरकार द्वारा जारी गाइडलाईन की शत प्रतिशत पालना करें । इस संकट के समय में आमजन के सहयोग और जागरूकता से ही कोरोना से निजात मिल सकेगी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned