फरार बंदियों ने की थी हैड कांस्टेबल से मारपीट, फोन से सूचना देकर डकैत मुकेश ठाकुर को बुलाया

धौलपुर. मनियां थाना इलाके एक हैड कांस्टेबल को गोली मारने के मामले में नया मोड़ सामने आया है। पुलिस की प्रारंभिक पड़ताल में घायल हैड कांस्टेबल का आमना-सामना फरार चल रहे बंदियों से होने की बात सामने आ रही है। इस दौरान दोनों फरार आरोपियों ने निहत्थे पुलिसकर्मी से ना केवल मारपीट की, बल्कि सूचना देकर डकैत मुकेश ठाकुर को भी मौके पर बुला लिया।

By: Naresh

Published: 01 Dec 2020, 10:49 AM IST

फरार बंदियों ने की थी हैड कांस्टेबल से मारपीट, फोन से सूचना देकर डकैत मुकेश ठाकुर को बुलाया
-आरोपियों की तलाश में दबिशें शुरू
धौलपुर. मनियां थाना इलाके एक हैड कांस्टेबल को गोली मारने के मामले में नया मोड़ सामने आया है। पुलिस की प्रारंभिक पड़ताल में घायल हैड कांस्टेबल का आमना-सामना फरार चल रहे बंदियों से होने की बात सामने आ रही है। इस दौरान दोनों फरार आरोपियों ने निहत्थे पुलिसकर्मी से ना केवल मारपीट की, बल्कि सूचना देकर डकैत मुकेश ठाकुर को भी मौके पर बुला लिया। इसके बाद फायर करते हुए पुलिसकर्मी को गोली मार दी और सभी आरोपी मौके से फरार हो गए। वहीं, घटना के बाद पुलिस ने क्षेत्र में करीब एक दर्जन स्थानों पर दबिशें देकर आरोपियों को पकडऩे का प्रयास किया, लेकिन सोमवार देर शाम तक कोई भी जानकारी नहीं हो सकी है। पुलिस की ओर से तलाशी अभियान जारी होने की बात कही जा रही है।
पुलिस सूत्रों के अनुसार यहां गत 18 अक्टूबर को जिला अस्पताल के बंदी वार्ड से फरार चल रहे अजीत पुत्र राजकुमार जाति ठाकुर निवासी रतनपुर थाना बसेड़ी, कल्याण सिंह पुत्र शिबू उर्फ शिवचरण ठाकुर निवासी मुरावली थाना कंचनपुर के मनियां थाना क्षेत्र गांव गढ़ी विन्ती पुरा में एक शादी समारोह में शामिल होने की जानकारी मिलने पर कौलारी थाना इलाके की सकवारा चौकी पर तैनात पुलिस हैड कांस्टेबल अशोक सिंह राजावत रवाना हो गए। यहां मौके पर पहुंचने पर हैड कांस्टेबल का सामाना फरार बंदी अजीत और कल्याण से हो गया। दोनों फरार बंदियों ने हैड कांस्टेबल को निहत्था पाकर मारपीट करना शुरू कर दिया और सूचना देकर दस्यु मुकेश ठाकुर को मौके पर बुला लिया। यहां दस्यु ने पहुंचने के बाद फायर दिया, गोली जांघ में लगने पर हैड कांस्टेबल घायल हो गए। सूत्रों ने बताया पुलिस पड़ताल में सामने आया है कि फरार चल रहे अजीत और कल्याण ने दस्यु मुकेश ठाकुर के गिरोह में शामिल हो जाना सामने आ रहा है।
स्थानीय होने के कारण निहत्था ही निकला हैडकांस्टेबल
प्रारंभिक पड़ताल में सामने आया है कि गत 18 अक्टूबर को जब जिला अस्पताल के वार्ड से बंदी फरार हुए थे, उस दौरान हैड कांस्टेबल अशोक सिंह राजावत बंदी वार्ड का प्रभारी था। मामले में दो बंदियों के अभी तक फरार चलने के कारण हैड कांस्टेबल पर जांच लम्बित बनी हुई है। इस बीच उसे जब सूचना मिली कि फरार बंदी गांव गढ़ी विन्ती पुरा में छुपे हुए है, तो स्थानीय क्षेत्र में रिश्तेदारियों होने और स्वयं भी समपीवर्ती गांव का निवासी होने के कारण अशोक अपने उच्चाधिकारियों को बिना सूचना दिए ही निहत्था ही यहां से रवाना हो गया था।
आरोपियों की तलाश में दबिशें शुरू
मामले में गंभीरता से अनुंसधान करते हुए पुलिस ने आरोपियों को पकडऩे के प्रयास शुरू कर दिए है। पुलिस टीम ने सोमवार को पावर्ती नदी के बीहड़ क्षेत्र में सर्च अभियान चलाया, इसके अलावा गांव खेरिया, गढ़ी जवाहर, डूडीपुरा, पथवारी, नगरिया आदि गांवों में दबिशें देकर दस्यु मुकेश ठाकुर गिरोह की तलाश की, लेकिन कोई जानकारी नहीं हो सकी है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि दस्यु मुकेश ठाकुर के जिस स्थान पर शादी समारोह में शामिल होने की बात सामने आई, वहां भी पुलिस पहुंच गई, लेकिन यहां लोग फरार मिले है। पुलिस ने मामले में पड़ताल शुरू कर दी है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned