scriptयुवा बने अब रक्तवीर, सोशल मीडिया के जरिए पहुंचते हैं रक्तदान करने | Youth have now become Raktveer, they reach out to donate blood through social media | Patrika News
धौलपुर

युवा बने अब रक्तवीर, सोशल मीडिया के जरिए पहुंचते हैं रक्तदान करने

शहर में संचालित ब्लड 24 घंटे हेल्प संगठन सोशल मीडिया पेज के माध्यम से लोगों को रक्तदान करने के लिए आगे आ रहे है। इनके पेज से जुडकऱ लोग भी इनके समूह में जुड़ रहे है।

धौलपुरJun 11, 2024 / 02:28 pm

Akshita Deora

अगर आपको ब्लड की जरूरत हैं और आप परेशान हो रहे है, तो घबराने की बात नहीं है। रक्त के लिए किसी भी मरीज की जान अब नहीं जाएंगी। युवाओं ने आगे आकर रक्त देकर लोगों का जिमा उठा रहे है। ऐसे रक्तवीर जो समाज सेवा में आकर सेवा कर रहे है।
शहर में संचालित ब्लड 24 घंटे हेल्प संगठन सोशल मीडिया पेज के माध्यम से लोगों को रक्तदान करने के लिए आगे आ रहे है। इनके पेज से जुडकऱ लोग भी इनके समूह में जुड़ रहे है।
राजस्थान पत्रिका ने ऐसे युवाओं से चर्चा की इनसे पूछा की रक्त से जुड़ी गलतफहमियों में लोग अभी भी शामिल हैं। तो युवाओं ने काफी जानकारी दी। ऐसे युवा अब रक्त के लिए किसी को परेशानी नहीं होने देते है। आपकों इनके बारे में बताते है।
यह भी पढ़ें

अंतिम संस्कार के बाद जीवित लौटा युवक, सामने खड़ा देख उड़े परिवार के होश

गौरव श्रोति ने बताया कि वह ब्लड 24 घंटे हेल्प के संस्थापक है। अभी तक वह 24 बार रक्तदान कर चुके है। सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों से जुड़ रहे है। जरूतर पड़ने पर वह आगे अस्पताल में पहुंचकर रक्तदान करते है। उन्होंने बताया कि रक्तदान को लेकर उनकी मां काफी मना करती थी। लेकिन धीरे-धीरे वह अब समझ गई कि उनका बेटा रक्तवीर बन गया है। अब उनका डर समाप्त हो गया है।
कमल ठाकुर ने बताया कि वह ब्लड 24 घंटे के अध्यक्ष है। वह अभी तक 29 बार रक्तदान कर चुके है। सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों को ब्लड देने के लिए पहुंचते है। उसके बाद जिस अस्पताल में मरीज भर्ती होता है। वहां पर रक्तदान करके लौट आते है। उनकी मां पहले मना करती थी कि हर बार बेटा रक्तदान मत किया करो, लेकिन समय बदलता गया। मां भी अब सहयोग करती है।
गौरव बाथम ये वह सदस्य हैं जो ब्लड 24 घंटे समूह में शामिल है। अब तक 26 बार रक्तदान कर चुके है। फोन से सूचना मिलते ही रक्तदान के लिए अस्पताल पहुंच जाते है। मरीज से मिलकर उनकी परेशानी पूछते है। अगर उनके पास कोई ब्लड देने के लिए नहीं हैं तो गौरव रक्तदान कर मरीज की जान बचाते है। हर तीन माह में रक्तदान कर देते है।
सौरभ जैन ने बताया कि वह अभी तक 14 बार रक्तदान कर चुके है। समूह से जुडकऱ लोगों को ब्लड देने के लिए पहुंचते है। मरीज को रक्त देने के लिए आगे आ रहे है।

Hindi News/ Dholpur / युवा बने अब रक्तवीर, सोशल मीडिया के जरिए पहुंचते हैं रक्तदान करने

ट्रेंडिंग वीडियो