सेहतमंद रहना चाहते हैं तो खानपान को लेकर आज से ही करें ये काम

सेहतमंद रहने के लिए खानपान पर विशेष ध्यान देने की जरूरत होती है। ऐसा नहीं है कि बीमार होने के बाद पौष्टिक खाने की जरूरत होती है। सच यह है कि नवजात से लेकर हर उम्र में शारीरिक विकास के लिए पौष्टिक व संतुलित आहार की जरूरत होती है।

By: Ramesh Singh

Updated: 23 Jun 2020, 07:17 PM IST

बचपन से ही ध्यान दें ये चीजें
एक वर्ष तक के बच्चे के लिए मां का दूध अमृत होता है। मां का गाढ़ा दूध बच्चे को मजबूती देता है। छह माह से एक साल के बच्चे को ऊपर का खाना देना चाहिए जिससे उसके शरीर को पोषक तत्त्व मिल सकें। इसमें दलिया, दूध, दाल दे सकते हैं। सभी खाद्य पदार्थ तरल रूप में होने चाहिएं जिन्हें वे आसानी से खा लें और पचा सकें।

दाल, पनीर और अंडा खाएं
10-18 उम्र वर्ग के लड़के और लड़कियों के विकास के लिए यह समय महत्त्वपूर्ण होता है। इसमें शारीरिक विकास और हॉर्मोनल चेंज होते हैं। ऐसी अवस्था में शरीर में आयरन और कैल्शियम की मात्रा कम नहीं होनी चाहिए। वजन के हिसाब से प्रोटीन लेना जरूरी है। एक किलो ग्राम वजन पर एक ग्राम प्रोटीन जरूरी है।

खाने में 60 ग्राम प्रोटीन जरूरी
25-40 की उम्र में तय मानक के अनुसार शरीर में कैलोरी कम नहीं होनी चाहिए। प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट्स के लिए फल, सब्जी, दाल, रोटी, चावल और अंडे का प्रयोग फायदेमंद रहता है। इस उम्र में पर्याप्त मात्रा में सभी पोषक तत्त्व मिलने से हड्डियां मजबूत होती हैं। खाने में करीब 60 ग्राम प्रोटीन जरूरी है। एक अंडे और एक कटोरी चना दाल में 13 ग्राम प्रोटीन होता है।
रंग-बिरंगी सब्जियां लें
60 की उम्र के बाद अधिकतर लोग काम कम करते हैं। पुरुषों को प्रतिदिन 2200 कैलोरी जबकि महिला के लिए 1800 कैलोरी की जरूरत होती है। एंटीऑक्सीडेंट्स की अधिक मात्रा लेना जरूरी है। इसमें हरी और रंग बिरंगी सब्जी के साथ फल, दूध, मेवा खाना चाहिए। तरल में पानी, सूप और जूस लेना ठीक रहता है।

Ramesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned