सुधार बन गया समस्या, 334 पीओएस मशीन में से 145 हो गई खराब, खाद्यान्न से वंचित हैं गरीब परिवार

सुधार बन गया समस्या, 334 पीओएस मशीन में से 145 हो गई खराब, खाद्यान्न से वंचित हैं गरीब परिवार

Amaresh Singh | Publish: Jun, 23 2019 01:29:13 PM (IST) Dindori, Dindori, Madhya Pradesh, India

राशन वितरण व्यवस्था ठप

डिंडोरी। सार्वजनिक वितरण प्रणाली में सुधार की मंशा से शुरू किया गया पीओएस यानि पाई ऑफ सेल सिस्टम समस्या साबित हो रही है। पीओएस मशीन में तकनीकी गड़बडिय़ो के चलते जिले में सार्वजनिक वितरण व्यवस्था पूरी तरह लडखड़़ा गयी है। स्थिति इतनी खराब है कि जिले में संचालित षासकीय उचित मूल्य दुकानों में कार्यरत 334 में 145 मशीन खराब है। जिसके चलते गरीब पर्ची धारी परिवार दाने दाने को मोहताज है। पूरे मामले में उचित मूल्य दुकान संचालक भी सरकारी आदेश का हवाला देकर बगैर मशीन खाद्यान्न वितरण से हाथ खींच रहे है।


यह भी पढ़ें-बंद हो गया गरीबों की थाली का राशन, भरी दोपहरी में भूखे पेट लौटने लगे श्रमिक


पर्चीधारी परिवारों की जानकारी मशीन में दर्ज करवाई गई थी
गौरतलब है कि सरकारी राशन दुकानों में कालाबाजारी पर लगाम लगाने की कवायद के तहत शासन ने जिले की सभी 334 शासकीय उचित मूल्य दुकानों के पाई ऑफ सेल के जरिये ही राशन वितरण सुनिश्चित किया था। जिसके तहत सभी खाद्यान्न पर्चीधारी परिवारों की जानकारी मशीन में दर्ज करवाई गयी थी। व्यवस्था के तहत राशन वितरण वाले दिन परिवार के सदस्यों को मशीन पर अंगूठा लगाने के उपरांत मशीन की अनुमति पर ही राशन वितरण किया जाता है। लेकिन इस दौरान मशीन में नेटवर्क, प्रिंटर, बायोमेट्रिक सहित अन्य तकनीकी कारणों से खराबी आने से वितरण व्यवस्था प्रभावित हो रही है।

यह भी पढ़ें-15 दिन में 22 दुष्कर्मियों को सलाखों तक पहुंचाया, ये आरोपी दुष्कर्म के मामले में पुलिस को चमका दे रहे थे

बायोमैट्रिक पहचान के राशन वितरण पर प्रतिबंध है
चूंकि वितरण के दौरान पर्चीधारी परिवार के सदस्यों की बायोमैट्रिक पहचान हेतु मशीन का ऑनलाइन होना जरूरी होता है। लेकिन जिले में सर्वर गड़बड़ी के चलते यह समस्या भी व्यवस्था को बहुत हद तक प्रभावित कर रही है। गौरतलब है कि जिले में सार्वजनिक वितरण व्यवस्था के तहत 334 शासकीय उचित मूल्य दुकाने संचालित है। जहां से लगभग 1 लाख 80 हजार 569 पर्चीधारी परिवारों को रिआयती दर पर खाद्यान्न वितरण किया जाता है। वहीं विक्रेता रघुवर सिंह गौतम ने कहा कि शासन के निर्देशानुसार बगैर बायोमैट्रिक पहचान के राशन वितरण पर प्रतिबंध है जबकि मशीनों में आये दिन तकनीकी गडबडियां आती रहती हैं जिससे खाद्यान्न वितरण प्रभावित होता है ऐसी स्थिति में हमें उपभोक्ताओं के आक्रोश का भी सामना करना पडता है इसके साथ ही दुकानों में भीड़ बढ़ती है।

यह भी पढ़ें-दादी-नातिन की हत्या, पांच दिन बाद मिली लाश, कुएं में फेंका बच्ची का शव

व्यवस्था को सुधारना चाहिए
उपभोक्ता शशि प्रभा मिश्रा ने कहा कि व्यवस्था को सुधारना चाहिये हम ऑटो से उचित मूल्य दुकान तक आते हैं लेकिन मशीन की खराबी का खामियाजा हमें भुगतना पडता है मशीन खराब होने की स्थिति में राशन रजिस्टर से वितरण करना चाहिये। भद्दू दास ने कहा कि राशन लेना है तो काम धंधा छोडकर हमें यहां इंतजार करना पडता है। दिन भर की मजदूरी मार खाती है और दिन भर इंतजार करने के बाद शाम को नंबर आता है लेकिन मशीन खराब हो जाती है।

यह भी पढ़ें-रिश्तेदार ने किशोरी के साथ किया दुष्कर्म, बहला फुसलाकर ले गया था अपने साथ


आए दिन समस्या रहती है

बिल्चू दाहिया ने कहा कि उचित मूल्य दुकान में आये दिन समस्या रहती है मेरी मां 82 साल की है और उनके नाम से ही कार्ड बना हुआ है जब हम राशन लेने आते हैं तो इस तरह की समस्या आ जाती है जिससे परेशानी अधिक बढ जाती है। ललिता बाई ने कहा कि राशन लेने के लिये हम दिन दिन भर इंतजार करते हैं अपने छोटे छोटे बच्चों को लेकर यहां अपनी बारी का इंतजार करते हैं लेकिन किसी तरह जब हमारी बारी आती है तो मशीन में खराबी आ जाती है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned