कमाल है...एक ही नंबर के 1254 राशन कार्ड से 4 साल तक चावल लेते रहे और किसी को पता तक नहीं चला

कमाल है...एक ही नंबर के 1254 राशन कार्ड से 4 साल तक चावल लेते रहे और किसी को पता तक नहीं चला

Hemant Kapoor | Updated: 08 Aug 2019, 10:09:19 PM (IST) Durg, Durg, Chhattisgarh, India

राशन कार्डों के नवीनीकरण में बड़ी गड़बड़ी का खुलासा हुआ है। हितग्राहियों द्वारा जमा कराए गए आवेदनों में 1254 ऐसे राशन कार्ड सामने आएं हैं, जिनमें हितग्राहियों के नाम अलग हैं, लेकिन कार्ड का नंबर एक ही है।

दुर्ग. राशन कार्डों के नवीनीकरण में बड़ी गड़बड़ी का खुलासा हुआ है। हितग्राहियों द्वारा जमा कराए गए आवेदनों में 1254 ऐसे राशन कार्ड सामने आएं हैं, जिनमें हितग्राहियों के नाम अलग हैं, लेकिन कार्ड का नंबर एक ही है। खास बात यह है कि ये राशन कार्ड 4 साल से प्रचलित हैं और हितग्राहियों द्वारा हर माह चावल भी लिया जा रहा है, लेकिन विभाग को इसकी भनक तक नहीं लगी। अब इन राशन कार्डों का संदेहास्पद मानते हुए हितग्राहियों के सत्यापन की तैयारी की जा रही है।


ऐसे सामने आया मामला
सार्वजनिक वितरण प्रणाली के राशन कार्डों का नवीनीकरण कराया जा रहा है। इसके पहले चरण में कार्डधारियों से आवेदन मंगाए गए हैं। इन आवेदनों के साथ मौजूदा राशन कार्डों के ब्यौरा, कार्ड धारियों व उनके आश्रितों की पात्रता को प्रमाणित करने वाले दस्तावेज व अन्य जानकारियां भी मंगाई गई है। इसकी जांच में एक ही नंबर के कई राशन कार्ड सामने आए हैं।


इस तरह समझें गड़बड़ी को
सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत पूरे प्रदेश में प्रत्येक हितग्राही परिवार को राशन कार्ड जारी किया गया है। हर राशन कार्ड की अलग से पहचान हो सके इसके लिए 14 डिजिट का अलग-अलग सीरियल नंबर भी दिया गया है। इसी नंबर से विभाग के सॉफ्टवेयर में हितग्राही परिवार की पहचान होती है। अब एक ही नंबर के कई राशन कार्ड सामने आ गए हैं।


मामला इसलिए संदेहास्पद
राशन वितरण के दौरान विभाग के सॉफ्टवेयर में परिवार के मुखिया के साथ राशन कार्ड का नंबर भी दर्ज होता है, लेकिन सॉफ्टवेयर भी यह गड़बड़ी नहीं पकड़ पाया। दूसरी ओर अकेले दुर्ग जिले में ही 1254 राशन कार्ड नंबर को लेकर गड़बड़ी पाई गई है। पूरे प्रदेश में यह संख्या काफी ज्यादा हो सकती है। इन कार्डों पर चार साल से राशन लिया जा रहा है।


इस तरह होगा सत्यापन
विभाग के मुताबिक ऐसे राशन कार्डधारियों की अलग से सूची बनाई गई है। इन परिवारों द्वारा जमा कराए गए आवेदनों व दस्तावेज के आधार पर अब विभाग के कर्मचारी उनके घरों में जाएंगे और भौतिक सत्यापन करेंगे। इसमें जो परिवार पात्र पाया जाएगा उनका ही कार्ड नवीनीकरण किया जाएगा। शेष राशन कार्ड रद्द कर दिए जाएंगे।


फर्जी कार्ड के खुल चुके हैं मामले
जिले में फर्जी राशन कार्ड के पहले ही कई मामले खुल चुके हैं। ऐसे मामलों में करीब 70 से 75 हजार राशन कार्ड निरस्त किए जा चुके हैं। आधार लिंकिंग के दौरान ये कार्ड निरस्त किए गए थे। इसके अलावा पिछले साल खाद्य विभाग का आईडी हैक पर फर्जी आइपी से राशन कार्ड बनाने का मामला खुला था। इसमें भी करीब 2 हजार राशन कार्ड निरस्त किया गया था।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned