CM के निर्वाचन क्षेत्र के इस गांव में खेलों के प्रति ऐसी दीवानगी कि हर दिन 200 से ज्यादा खिलाड़ी बहाते हैँ पसीना

पाटन ब्लॉक के ग्राम झीठ में खेलों के प्रति दीवानगी ने राष्ट्रीय स्तर की प्रतिभाएं तैयार करने में मदद की हैं। यह गांव उन चुनिंदा गांवों में से एक है जहां एडवेंचर क्लब बनाकर ग्रामीणों ने खेलों का उत्साह बनाए रखा है

By: Dakshi Sahu

Published: 15 Sep 2021, 11:50 AM IST

दुर्ग. जिले के पाटन ब्लॉक के ग्राम झीठ में खेलों के प्रति दीवानगी ने राष्ट्रीय स्तर की प्रतिभाएं तैयार करने में मदद की हैं। यह गांव उन चुनिंदा गांवों में से एक है जहां एडवेंचर क्लब बनाकर ग्रामीणों ने खेलों का उत्साह बनाए रखा है और निरंतर बेहतर खेलने वाले युवाओं को प्रोत्साहित किया है। हर दिन यहां नजदीकी गांवों से लगभग 200 खिलाड़ी आकर प्रैक्टिस करते हैं। नतीजा यह है कि खो-खो में यहां की प्रतिभाओं को राष्ट्रीय स्पर्धाओं में भी जगह मिलने लगी है। पुणे में वर्ष 2019 में आयोजित यूथ गेम्स में छत्तीसगढ़ की टीम में 5 खिलाड़ी झीठ से ही थे। झीठ स्कूल में व्यायाम शिक्षक दुर्गा प्रसाद जंघेल ने बताया कि गांव में खेल को लेकर जबर्दस्त उत्साह है। एडवेंचर क्लब के माध्यम से न केवल गांव के ही अपितु आसपास के गांव कापसी, महुदा, उफरा, कोपेडीह, रूही जैसे गांवों से अमूमन हर दिन 200 खिलाड़ी यहां प्रैक्टिस करने पहुंचते हैं। जंघेल ने बताया कि विद्यालय में भी प्राचार्य भारती बघेल के मार्गदर्शन में स्पोट्र्स के लिए झुकाव रखने वाले विद्यार्थियों को लगातार प्रेरित किया जाता है।

मनोरंजन के साथ बन रहा कॅरियर
खेलों के माध्यम करियर की राह भी खुल गई है। हरीश ठाकुर का चयन खेल कोटे से सीआरपीएफ के लिए हुआ। परमेश्वर पटेल और हेमंत पटेल का चयन पुलिस में हुआ। डिकेश साहू और ललित साहू व्यायाम शिक्षक के लिए चयनित हुए हैं। करियर में गांव के खिलाडिय़ों को आगे बढ़ता देख बाकी युवाओं का भी उत्साह दोगुना हो गया है।

एडवेंचर क्लब बन रहा माध्यम
एडवेंचर क्लब को ग्रामीणों और जनप्रतिनिधियों का पूरा प्रोत्साहन मिलता है। सरपंच शशिकला सिन्हा, पूर्व सरपंच पवन ठाकुर, धर्मेन्द्र कौशिक व अन्य जनप्रतिनिधि निरंतर प्रोत्साहन देते हैं। भूपेश सिन्हा प्रशिक्षक के रूप में वरिष्ठ एवं कनिष्ठ खिलाडिय़ों को प्रशिक्षित करते हैं। इस साल यहां एडवेंचर ट्राफी खोखो प्रतियोगिता का आयोजन हुआ, इसमें प्रदेश की 16 टीमों ने हिस्सा लिया।

मुख्यमंत्री ने दिया खो-खो मैट
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी इन खिलाडिय़ों का हौसला अफजाई किया है। उन्होंने ग्रामीण खिलाडिय़ों को 9 लाख रूपए का खो-खो मैट प्रदान किया है। पहले क्लब की गतिविधियां सुबह और शाम ही होती थीं। अब सोलर हाई मास्ट लाइट लग जाने से देर शाम तक स्पोट्र्स गतिविधि का संचालन संभव हुआ है।

Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned