इन चार जगहों पर मिले हैं हनुमान जी के पैरों के निशान, जानें इससे जुड़े 10 रहस्य

इन चार जगहों पर मिले हैं हनुमान जी के पैरों के निशान, जानें इससे जुड़े 10 रहस्य

Soma Roy | Updated: 30 Aug 2019, 11:07:42 AM (IST) दस का दम

  • Hanuman ji footprints : थाइलैंड की राजधानी का नाम श्रीराम की नगरी अयोध्या पर आधारित थी
  • जटायु को मोक्ष प्रदान करने के लिए राम जी ने कहा था लेपाक्षी

नई दिल्ली। धरती पर हनुमान जी के अस्तित्व को लेकर हमेशा से अलग-अलग तर्क दिए जाते हैं। हिंदू पुराणों के अनुसार बजरंगबली आज भी धरती पर जीवित हैं। सतयुग काल से उनके धरती पर होने के कई प्रमाण मिले हैं। देश में कई ऐसी जगह हैं जहां उनके पैरों के निशान पाए गए हैं। आज हम आपको रामायण से जुड़े कुछ ऐसे ही रहस्यों के बारे में बताएंगे।

1.पौराणिक ग्रंथों के अनुसार हनुमान समेत प्रभु श्रीराम के चरणों के चिन्ह भारत समेत कई दूसरे देशों में भी देखने को मिले हैं। थाइलैंड के एक ग्रंथ रामाकेन के अनुसार यहां भी हनुमान जी के विशालकाय पैरों के निशान देखने को मिले हैं।

2.रामाकेन ग्रंथ हिंदू पुराण रामायण का ही एक वर्जन है। इसमें बताया गया है कि थाइलैंड की राजधानी का नाम पुराने जमाने में अयुद्धय्या था। जो भारत में प्रभु श्रीराम की राजधानी अयोध्या पर आधारित था।

3.आंध्र प्रदेश की राजधानी लेपाक्षी में भी हनुमान जी के पैरों के निशान देखने को मिले हैं। हालांकि कुछ विद्वानों के अनुसार ये चरण चिन्ह् माता सीता के हैं।

 

coin_foot.jpg

4.वाल्मीकि रामायण के अनुसार जब रावण देवी सीता का हरण करके लंका ले जा रहा था तब जटायु नाम के पक्षी ने उससे युद्ध किया था। उस दौरान जटायु घायल होकर जमीन पर गिर गया था। बाद में श्रीराम सीता को ढूंढ़ते हुए वहां पहुंचे थे। तब उन्होंने जटायु को मोक्ष प्रदान करने के लिए ले पक्षी बोला था। तब से इस जगह का नाम लेपाक्षी पड़ गया।

5.श्रीलंका में भी हनुमान जी के पैरों के निशान देखने को मिले हैं। बताया जाता है कि जब हनुमान जी लंका पहुंचे थे तब वे उड़कर वहां पहुंचे थे। इस दौरान वे एक चट्टान पर तेजी से उतरे थे। उस दौरान उनके पैर एक चट्टान पर पड़े थे। उनके पैरों की तेजी से चट्टान में थोड़े गड्ढ़े हो गए थे।

6.मलेशिया के पेनांग में भी हनुमान जी के चरणों के निशान पाए गए हैं। यहां हनुमान जी के पैरों को एक छोटे से मंदिर में रखा गया है। मंदिर में आने वाले भक्त चरणों में सिक्के चढ़ाते हैं।

hanuman_foot.jpg

7.प्रभु श्रीराम और हनुमान जी के अलावा धरती पर कई ऐसे विशालकाय पैरों के निशान देखने को मिले हैं। जो दूसरे महान लोगों के हैं। ये सतयुग काल में मौजूद शक्तियों की ओर इशारा करते हैं।

9.ईसाई धर्म ग्रंथ बाइबल के अनुसार पहले भगवान धरती पर लोगों के कल्याण के लिए इंसान बनकर जन्म लेते थे। उन्हीं शक्तियों का सबूत आज देखने को मिलते हैं।

10.धार्मिक ग्रंथ के अनुसार साउथ अफ्रीका में भी विशालकाय पैरों के निशान मिले हैं। ये लगभग 200 साल पुराने बताए जाते हैं।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned