क्या कोरोना के संकट से उबरने लगा है देश, क्या कहते हैं आंकड़े ?

  • पटरी पर लौट रही है भारतीय अर्थव्यवस्था ( Indian Economy )
  • पेट्रोल-डीजल की मांग से लेकर GST Collection में हुआ इजाफा

By: Pragati Bajpai

Published: 27 Jul 2020, 04:36 PM IST

नई दिल्ली: कोरोनावायरस ( coronavirus ) की वजह से देश की अर्थव्यवस्था ( Indian Economy ) की हालत एकदम चरमरा गई है । अगर ये कहा जाए तो गलत नहीं होगा लेकिन अब जबकि देश जून महीने से अनलॉक के दौर में प्रवेश कर चुका है ( हालांकि देश के कोरोना संक्रमण के मालों में किसी तरह की कमी नहीं आई है ) हर कोई इस बदलते दौर में सवाल कर रहा है कि क्या भारत फिर से 6-7 फीसदी की ग्रोथ रेट ( Growth rate ) हासिल कर पाएगा। क्या भारत की अर्थव्यवस्था एक बार फिर कब अपनी पटरी पर पुरानी गति से दौड़ना शुरू करेगी । खैर इन सवालों का जवाब देना अभी जल्द बाजी होगी लेकिन आपको बता दें कि देश के अर्थव्यवस्था की गाड़ी फिर धीरे-धीरे सरकने लगी है। इस बात की गवाही आंकड़े भी दे रहे हैं।

Tanishq की कस्टमर्स को सौगात, अब घर बैठे ट्राइ कर सकते हैं ज्वैलरी

  • कोटक म्यूचुअल फंड ( Kotak Mutual Funds ) की एक रिपोर्ट के मुताबिक मार्च में पेट्रोल की खपत 16% और डीजल की खपत 24% कम हो गई। अप्रैल महीने में पेट्रोल और डीजल की खपत में क्रमशः 60% और 56% तक की कमी आ गई। लेकिन जून के पहले 15 दिनों में एक बार फिर मांग मार्च के महीने के स्तर पर पहुंच चुकी हैं । दूसरे शब्दों में पेट्रोल-डीजल की कमी एक बार फिर क्रमशः 18% और 15% के स्तर पर पहुंच चुकी है।
  • 20 मार्च को देश में 45.8 करोड़ रुपये का इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन हुआ। 20 अप्रैल को कलेक्शन घटकर 8.3 करोड़ रुपये तक आ गया ( लॉकडाउन अपने पीक पर था )। लेकिन 20 जून को टेल कलेक्शन एक बार फिर से 50.4 करोड़ रुपये पर हो गया है। देश में एक बार फिर माल का परिवहन गति पकड़ चुका है।
  • मार्च 2020 में जीएसटी कलेक्शन ( GST Collection ) 98000 करोड़ रुपये था जो अप्रैल में 32 हजार करोड़ रूपए गया था लेकिन जून में ये एक बार फिर से 91000 करोड़ रुपये तक पहुंच चुका है । जो दिखाता है कि हमारी अर्थव्यवस्था ( Economy ) में सुधार है वो भी तब जबकि अभी भी सारे सेक्टर्स को खोला नहीं गया है।
  • कोरोना में भारतीय अर्थव्यवस्था ( Indian Economy ) की सबसे आशाजनक लकीर कृषि ने खींची है। मई 2019 में 20 लाख टन खाद की खुदरा बिक्री हुई। मई 2020 में यह बिक्री दोगुनी यानी 40 लाख टन हो गई।
coronavirus
Pragati Bajpai
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned