21 हजार से कम सैलेरी वालों पर सरकार मेहरबान, किये ये 5 बड़े ऐलान

अब सरकार ने नई नौकरी शुरू करने वाले ऐसे ही नौजवानों जिनकी सैलेरी 21000 रूपए तक है उनकी मुसीबतों का ख्याल करते हुए उनके लिए कुछ घोषणाएं की हैं ताकि उन्हें थोड़ी सी राहत दी जा सके।

By: Pragati Bajpai

Updated: 29 Apr 2020, 07:29 PM IST

नई दिल्ली: कोरोनावायरस ने हर एक की जिंदगी में अफरा-तफरी मचा रखी है। अंबानी हो या खेत में काम करने वाला किसान या कॉलेज खत्म कर नई नौकरी शुरू करने वाला नौजवान सभी इससे परेशान हैं। अब सरकार ने नई नौकरी शुरू करने वाले ऐसे ही नौजवानों जिनकी सैलेरी 21000 रूपए तक है उनकी मुसीबतों का ख्याल करते हुए उनके लिए कुछ घोषणाएं की हैं ताकि उन्हें थोड़ी सी राहत दी जा सके।

दरअसल सरकार ने केंद्र सरकार (Government of India) ने ईएसआई योजना (ESIC Scheme) का फायदा उठाने वाले कर्मचारियों अंशदान जमा न करने के बावजूद 30 जून 2020 तक सभी मेडिकल फैसलिटीज देने का ऐलान किया है। आपको बता दें कि ये स्कीम सिर्प उन लोगों को मिलती है जिनकी सैलेरी 21000 रुपए तक होती है और जो कम से कम 10 कर्मचारियों वाली कंपनी में काम करते हों।

सरकार की 5 घोषणाएं-

अगर लॉकडाउन की वजह से कर्मचारी अपने मेडिकल कार्ड को रिन्यू नहीं करवा पाएं हैं तब भी उन्हें एक्सपायरी कार्ड पर मेडिकल फैसिलिटी मिलती रहेगी। यानि एक्सपायर कार्ड की चिंता करने की जरूरत नहीं है।

प्राइवेट हॉस्पिटल से दवाइयां खरीदने पर भी कर्मचारी क्लेम कर सकेंगे । ESIC ने लॉकडाउन के दौरान प्राइवेट मेडिकल स्टोर से दवाएं खरीदने की भी सुविधा प्रदान की है। कर्मचारी प्राइवेट दुकानों से दवा खरीदकर ESIC से बिल का क्लेम ले सकते हैं।

जिन ESIC अस्पतालों को COVID-19 अस्पताल में बदल दिया है वहां इलाज कराने वाले कर्मचारियों को अन्य हॉपिटल्स से इलाज कराने की आजादी होगी ।

जिन लोगों को मार्च से लेकर अप्रैल तक esic का अंशदान ना था उन्हें 15 तक की मोहलत दे दी गयी है यानि अब वो 15 मई तक ये काम कर पाएंगे।

Show More
Pragati Bajpai
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned