आर्थिक मंदी के बीच हिमाचल से 1200 करोड़ कम आएगी जीएसटी

आर्थिक मंदी के बीच हिमाचल से 1200 करोड़ कम आएगी जीएसटी

Saurabh Sharma | Publish: Oct, 06 2019 09:27:34 AM (IST) अर्थव्‍यवस्‍था

  • 2018-19 में जीएसटी राजस्व का वार्षिक संग्रह 3,456.98 करोड़ रुपए था
  • 2019-20 में अभी तक महज 1,828 करोड़ रुपए ही दर्ज किया गया जीएसटी
  • टैक्स रिटर्न फाइलिंग को 75 से 95 फीसदी तक बढ़ाने का दिया निर्देश

नई दिल्ली। राष्ट्रीय आर्थिक मंदी के बीच हिमाचल प्रदेश में वस्तु एवं सेवा कर ( जीएसटी ) राजस्व वसूली पिछले वर्ष की तुलना में इस वित्तवर्ष 1,200 करोड़ रुपए से भी अधिक गिरने की संभावना है। यहां शनिवार को मुख्य सचिव श्रीकांत बाल्दी की अध्यक्षता में हुई बैठक में यह तथ्य सामने आया।

एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि 2018-19 में जहां जीएसटी राजस्व का वार्षिक संग्रह 3,456.98 करोड़ रुपए था, वहीं 2019-20 में यह अभी तक महज 1,828 करोड़ रुपए ही दर्ज किया गया है। राज्य का वार्षिक जीएसटी राजस्व 2017-18 में 2,497 करोड़ रुपए था।

यह भी पढ़ेंः- पेट्रोल और डीजल के दाम में लगातार कटौती जारी, जानिए आपके महानगर में कितना हुआ सस्ता

जीएसटी राजस्व में सुधार के लिए बाल्दी ने अधिकारियों को टैक्स रिटर्न फाइलिंग को 75 से 95 फीसदी तक बढ़ाने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि जीएसटी राजस्व में सुधार के लिए एक प्रमुख अभियान शुरू किया जाना चाहिए। उन्होंने फील्ड अधिकारियों को 30 नवंबर तक मौजूदा 75 फीसदी रिटर्न फाइलिंग को बढ़ाने का निर्देश दिया।

यह भी पढ़ेंः- ग्रेटर नोएडा के 25 हजार निवासियों के लिए काली हुई दिवाली, सालों पहले खरीदे प्लॉट पर देने होंगे और पैसे

उनके अनुसार, होटल और होमस्टे को कर के दायरे में लाया जाना चाहिए। इसके लिए एक अभियान शुरू किया जाएगा। उन्होंने अधिकारियों को उपभोक्ताओं द्वारा पेट्रोल और डीजल के उपयोग पर सी-फॉर्म के प्रावधान को हटाने के लिए एक प्रस्ताव तैयार करने का भी निर्देश दिया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned