जिन कृषि कानूनों पर किसान काट रहे हैं बवाल, गीता गोपीनाथ ने की जमकर तारीफ

  • आईएमएफ की प्रमुख अर्थशास्त्री ने कहा, नए कृषि कानूनों से बढ़ेगी किसानों की आय
  • बुनियादा ढांचा ठीक करने से लेकर कृषि के कई क्षेत्रों में सुधार करने की जरूरत

By: Saurabh Sharma

Updated: 27 Jan 2021, 07:16 PM IST

नई दिल्ली। जिन नए कृषि कानूनों को देश का किसान दिल्ली के बॉर्डर पर डेरा जमाए बैठा है उन्हीं कानूनों को आईएमएफ की प्रमुख अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ ने किसानों के लिए बेहतर बताया है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार की ओर से जो कानून बनाए हैं वो किसानों की आय को बढ़ाने सहायक साबित होंगे। आइए आपको भी बताते हैं कि उन्होंने कृषि कानूनों को लेकर क्या कहा...

यह भी पढ़ेंः- साउथ इंडिया के किसानों को खुश करने के लिए सरकार ने उठाया बड़ा कदम, बढ़ जाएगी इनकम

कमजोर काश्तकारों की सुरक्षा पर जोर
इसके साथ ही गीता गोपीनाथ ने कमजोर किसानों को सामाजिक सुरक्षा देने पर भी जोर दिया है। उन्होंने कहा कि भारतीय कृषि क्षेत्र में बड़े सुधार की जरूरत है। बुनियादा ढांचा ठीक करने से लेकर कृषि में बहुत सारे क्षेत्र हैं जिनमें सुधार किए जाने की जरूरत है। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ ने कहा कि ये कृषि कानून मार्केटिंग को लेकर हैं। यह सभी कानून किसानों के लिए बाजार को और बड़ा कर रहा है।हमारी समझ में इन कानूनों से किसानों की आय बढ़ाने की क्षमता है।

यह भी पढ़ेंः- किसानों की आय बढ़ाने के लिए सरकार खर्च करने जा रही है 6,850,00,00,000 रुपए

दो महीने से धरने पर बैठे हैं किसान
केंद्र सरकार ने पिछले साल सितम्बर में संसद से तीन कृषि कानून पारित किए थे। सरकार का दावा है कि इससे किसानों की आय को बढ़ाने में मदद मिलेगी। वहीं कृषि कानूनों के विरोध में राजधानी दिल्ली की सीमा पर पिछले दो महीने से किसान बैठे हुए हैं। किसानों की मांग है कि सरकार तीनों कृषि कानून वापस ले और एमएसपी गारंटी पर कानून लेकर आए। किसानों का कहना है कि सरकार के इन तीन कानूनों के आने से मंडियां कमजोर होंगी।

Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned