scriptKnow Piyush Goyal will present interim Budget or vote on account | जानिए क्या पीयूष गोयल पेश करेंगे अंतरिम बजट या होगा वोट आॅन अकाउंट | Patrika News

जानिए क्या पीयूष गोयल पेश करेंगे अंतरिम बजट या होगा वोट आॅन अकाउंट

आगामी बजट के स्वरूप को लेकर अटकलें लगाई जा रही है कि क्या यह सिर्फ लेखानुदान होगा या फिर गोयल इसके अतिरिक्त राजस्व और व्यय दोनों का आकलन पेश करेंगे, जिसके सरकार के नीतिगत कदम भी शामिल होंगे।

नई दिल्ली

Updated: January 29, 2019 07:41:35 pm

नई दिल्ली। पीयूष गोयल को एक बार फिर वित्त मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार सौंपे जाने के बाद यह संशय तो दूर हो गया कि अगला बजट कौन पेश करेगा, मगर यह सवाल अभी तक बना हुआ है कि एक फरवरी को अंतरिम बजट पेश किया जाएगा या फिर लेखानुदान (वोट आॅन अकाउंट)। आम चुनाव से थोड़ा ही पहले पेश होने के कारण आगामी बजट के स्वरूप को लेकर अटकलें लगाई जा रही है कि क्या यह सिर्फ लेखानुदान होगा जिसमें संसद द्वारा अगले वित्त वर्ष के दौरान संक्रमण अवधि के लिए सरकार के खर्च को मंजूरी प्रदान की जाएगी या फिर गोयल इसके अतिरिक्त राजस्व और व्यय दोनों का आकलन पेश करेंगे, जिसके सरकार के नीतिगत कदम भी शामिल होंगे।

Interim BUdget 2019

वोटर्स को लुभाने के लिए सरकार के पास अंतिम मौका

आगामी सरकार को हालांकि सत्ता संभालने के बाद अपना पूर्ण बजट पेश करते समय अंतरिम बजट के आकलन में परिवर्तन की स्वतंत्रता होगी। अब तक देश में कार्यकाल समाप्त होने वाली सरकारों ने अंतरिम बजट में बड़ी नीतिगत फैसले लेने या कराधान के प्रस्ताव करने से दूर रहने की परंपरा का पालन किया है। विगत वर्षो पर नजर डालें तो 2000 के बाद तीन बार अंतरिम बजट पेश किए गए हैं। एक मार्केट रिसर्च कंपनी का कहना है कि यह कवायद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की अगुवाई वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार के पास करों और परियोजनाओं पर खर्च के माध्यम से समाज के एक बड़े वर्ग को खुश करने का अंतिम अवसर हो सकती है।


सरकार के पास है मौका

पिछले सप्ताह जेएम फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशनल सिक्योरिटीज की एक रिपोर्ट के अनुसार, 2018-19 में सूचीबद्ध फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के संशोधित फार्मूले के अनुसार, फसलों की खरीद में बढ़ोतरी के वादे में विफल होने के बाद एक फरवरी 2019 को सरकार के लिए अंतिम अवसर होगा जब वह लेखानुदान के बजाए अंतरिम बजट की घोषणाओं के माध्यम से समाज के एक बड़े वर्ग को खुश कर सकती है, जिसमें करों में बदलाव और परियोजनाओं के खर्च में परिवर्तन किया जा सकता है। नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर एक आधिकारिक सूत्र ने बताया कि अगला आम चुनाव अप्रैल-मई में होनेवाला है, इसलिए सरकार छोटे कारोबारी वर्ग को सस्ते कर्ज मुहैया करवाने एवं मुफ्त दुर्घटना बीमा प्रदान करने पर विचार कर रही है। नवंबर 2016 में नोटबंदी से यह वर्ग प्रभावित हुआ है।


राष्ट्रपति के अभिभाषण का भी मसला

वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) परिषद ने छोटे कारोबार के लिए छूट की सीमा 20 लाख रुपये से दोगुना करके 40 लाख रुपये कर दी है। जीएसटी कंपोजीशन स्कीम के तहत पात्रता की सीमा एक करोड़ रुपये से बढ़ाकर 1.5 करोड़ रुपये कर दी गई है, जोकि एक अप्रैल 2019-20 से प्रभावी होगी। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र के प्रोफेसर अरुण कुमार ने कहा कि प्रमुख नीतिगत प्रस्तावों के साथ अंतरिम बजट पेश करना अनैतिक होगा, इसके अलावा बजट सत्र में राष्ट्रपति के अभिभाषण का भी मसला है जिसके माध्यम से सरकार अपना नजरिया पेश करती है।

राज्यों के पास अपने बजट के माध्यम से लोकलुभावन घोषणाएं करने की आजादी

उन्होंने कहा, "अगर बजट में लोकलुभावन योजनाओं का प्रस्ताव किया जाएगा तो दूसरी पार्टी के सत्ता में आने पर अगली सरकार के लिए उसे वापस लेना कठिन हो जाएगा।" प्रख्यात अर्थशास्त्री अशोक देसाई ने कहा कि कार्यकाल पूरा करने वाली (आउटोगोइंग) सरकार किसी प्रकार का कर प्रस्ताव या नीतिगत बदलाव नहीं कर सकती है। देसाई 1991-93 के दौरान वित्त मंत्रालय के मुख्य सलाहकार थे। देसाई ने कहा, "चुनाव नजदीक होने से सरकार यह कर सकती है कि मौजूदा योजनाओं के खर्च में बढ़ोतरी कर देगी, लेकिन नई योजनाओं की घोषणा नहीं की जा सकती है।" उन्होंने कहा, "इस स्थिति में राज्यों के पास अपने बजट के माध्यम से लोकलुभावन योजनाओं की घोषणाएं करने की आजादी है।" अर्थशास्त्री नागेश कुमार को लगता है कि ग्रामीण क्षेत्र और छोटे कारोबारों के लिए खर्च में वृद्धि का प्रस्ताव किया जा सकता है 'जोकि बुरा भी नहीं है' क्योंकि इससे उपभोग मांग बढ़ेगी, खासकर तब जब निजी निवेश में सुस्ती का माहौल है।
Read the Latest Business News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले Business news in hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में पत्रिका पर।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

Assam Flood: असम में बारिश और बाढ़ से भीषण तबाही, स्टेशन डूबे, पानी के बहाव में ट्रेन तक पलटीराजस्थान BJP में सियासी रार तेज: वसुंधरा ने शायरी से साधा निशाना... जिन पत्थरों को हमने दी थीं धड़कनें, वो आज हम पर बरस...कांग्रेस के बाद अब 20 मई को जयपुर में भाजपा की राष्ट्रीय बैठक, ये रहा पूरा कार्यक्रमTRAI के सिल्वर जुबली प्रोग्राम में PM मोदी ने लॉन्च किया 5G टेस्ट बेड, बोले- इससे आएंगे सकारात्मक बदलावपूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिंदबरम के बेटे के घर पर CBI की रेड, कार्ति बोले- कितनी बार हुई छापेमारी, भूल चुका हूं गिनतीक्रिकेट इतिहास के 5 सबसे लंबे गेंदबाज, नंबर 1 की लंबाई है The Great Khali के बराबरकुतुब मीनार और ताजमहल हिंदुओं को सौंपे भारत सरकार, कांग्रेस के एक नेता ने की है यह मांगकोर्ट में ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश होने में संशय, दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट में एक बजे सुनवाई, 11 बजे एडवोकेट कमिश्नर पहुंचेंगे जिला कोर्ट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.