निर्यात को बढ़ावा देने की तैयारी में सरकार, जल्द कर सकती है उपायों की घोषणा

निर्यात को बढ़ावा देने की तैयारी में सरकार, जल्द कर सकती है उपायों की घोषणा

Shivani Sharma | Updated: 07 Sep 2019, 09:51:59 AM (IST) अर्थव्‍यवस्‍था

  • निर्यात को बढ़ावा देगी मोदी सरकार, कर सकती है बड़े ऐलान
  • सरकार जल्द ही निर्यात को बढ़ावा देने का विचार कर रही है

नई दिल्ली। देश के निर्यात में सुस्ती को बढ़ावा देने के लिए सरकार रत्न एवं आभूषण समेत कई क्षेत्रों के लिए उपायों की घोषणा कर सकती है। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। अधिकारी ने कहा कि इन उपायों पर बातचीत के लिए वित्त मंत्रालय और वाणिज्य मंत्रालय कई दौर की वार्ता कर चुका है। विचाराधीन प्रस्ताव के रूप में, सरकार विशेष आर्थिक क्षेत्र (सेज) में इकाइयों के कर संबंधी लाभ को हटाने की समयसीमा बढ़ा सकती है।


बजट में की थी घोषणा

सरकार ने 2016-17 के आम बजट में यह घोषणा की थी कि आयकर संबंधी लाभ सेज की केवल उन्हीं नई इकाइयों को मिलेंगे, जो 31 मार्च 2020 से पहले कार्य करना शुरू कर देंगी। रत्न एवं आभूषण क्षेत्र के लिए सरकार रंगीन रत्न (पत्थर) और पॉलिश हीरों पर आयात शुल्क को घटाने पर विचार कर रही है। वर्तमान में यह 7.5 फीसदी है। इसके अलावा, सरकार भारतीय निर्यात ऋण गारंटी निगम की ओर से निर्यात कर्ज के लिए मिलने वाले बीमा कवर को 60 फीसदी से बढ़ाकर 90 फीसदी करने पर भी विचार कर रही है। यह बैंकों को प्रतिस्पर्धी दरों में निर्यात ऋण उपलब्ध कराने में सक्षम बनाएगा।


ये भी पढ़ें: आर्थिक मोर्चे और बेरोजगारी पर फेल होती नजर आ रही मोदी सरकार, सामने आया 100 दिन का रिपोर्ट कार्ड


निर्यात को बढ़ावा देगी सरकार

आयात एवं निर्यात खेपों के जल्द से जल्दी मंजूरी (क्लीयरेंस) के लिए मानक परिचालन प्रकिया लागू की जा सकती है। निर्यातकों ने कई अन्य उपाय किए जाने की भी मांग की है। इसमें गैर-बासमती चावल और कपड़ा जैसे क्षेत्रों के लिए भारत से वस्तु निर्यात योजना (एमईआईएस) का लाभ देना शामिल है। इसके अलावा बड़ी दवा कंपनियों को ब्याज सहायता देने की भी मांग की गई है।


फियो के महानिदेशक ने दी जानकारी

निर्यातकों के संगठन फियो के महानिदेशक अजय सहाय ने कहा, "आर्थिक अनिश्चितताओं की वजह से दुनिया भर में मांग में कमी के बीच देश का निर्यात मुश्किल दौर से गुजर रहा है। निर्यातकों के लिए उपाय किए जाने से उन्हें इससे बाहर आने में मदद मिलेगी और प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी।" देश के निर्यात में जुलाई महीने में 2.25 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है। चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-जुलाई के दौरान निर्यात 0.37 फीसदी गिरकर 107.41 अरब डॉलर रह गया।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned