NEP: नई श‍िक्षा नीति में तीन C को किया शामिल, मातृ भषा में पढाई पर रहेगा जोर!

PM Modi speech: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर अपने विचार जनता के बीच रख रहे हैं. जिसमें उन्होंने बताया, देश हित में कैसे नई शिक्षा नीति...

By: Deovrat Singh

Published: 07 Aug 2020, 10:55 PM IST

PM Modi speech: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर अपने विचार जनता के बीच रख रहे हैं. जिसमें उन्होंने बताया, देश हित में कैसे नई शिक्षा नीति लाभदायक साबित होगी। उन्होंने बताया कि भारत के लोगों को ताकतवर और सशक्त बनाने के लिए इस शिक्षा नीति में खास ध्यान दिया गया है। उन्होंने छठी कक्षा तक मातृभाषा में सिलेबस पढ़ाने के फायदे बताए। उन्होंने कहा कि जब बच्चे अपनी बोली में अपनी पढ़ाई करेंगे तो उन्हें ये अच्छे से समझ आएगी। इसे लेकर उनकी रुचि बढ़ेगी और आगे चलकर उनका हायर एजुकेशन में इसका बेस मजबूत होगा।

पीएम मोदी ने कहा कि ये सच है कि 34 साल बाद शिक्षा नीति में बदलाव किया गया है। ऐसे में हर बारीकी और सवालों पर ध्यान दिया गया है। उन्होंने बताया कि शिक्षा नीति को नया आकार देने से पहले दो सवालों को पर गंभीर रूप से विचार किया था।

तीन C
पहला सवाल था, क्या नई शिक्षा नीति भविष्य में क्र‍िएटिवि‍टी, क्यूरोसिटी और कमिटमेंट मेकिंग पर लोगों को बांध कर रख पाएगी?

दूसरा सवाल था. क्या हमारी शिक्षा व्यवस्था Empower ( सशक्तिकरण) करती है?

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ''जब नर्सरी का बच्चा भी नई तकनीक के बारे में पढ़ेगा, तो उसे भविष्य की तैयारी करने में आसानी होगी. कई दशकों से शिक्षा नीति में बदलाव नहीं हुआ था, इसलिए समाज में भेड़चाल को प्रोत्साहन मिल रहा था. कभी डॉक्टर-इंजीनियर-वकील बनाने की होड़ लगी हुई थी. अब युवा क्रिएटिव विचारों को आगे बढ़ा सकेगा, अब सिर्फ पढ़ाई नहीं बल्कि वर्किंग कल्चर को डेवलेप किया गया है.''

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, राष्ट्रीय शिक्षा नीति आने के बाद देश के किसी भी क्षेत्र से, किसी भी वर्ग से ये बात नहीं उठी कि इसमें किसी तरह का भेदभाव है, या किसी एक ओर झुकी हुई है।

Deovrat Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned