UP Assembly Election 2022: भाजपा की बैठक में हुआ बड़ा फैसला, इन्हें नहीं मिलेगा टिकट

UP Assembly Elections 2022. सूत्रों की मानें तो पार्टी के महासचिव (संगठन) सुनील बंसल ने बैठक के दौरान टिकट वितरण को लेकर चर्चा की है।

By: Abhishek Gupta

Published: 10 Sep 2021, 07:02 PM IST

लखनऊ. UP Assembly Elections 2022. 2022 चुनाव को लेकर तैयारियां तेज हो गई है। पार्टियों में अंदरखाने प्रत्याशी तय होना शुरू हो गए हैंं। इस बीच भाजपा ने स्पष्ट कर दिया है कि वह पार्टी के पधाकारियों व प्रतिनिधियों को टिकट नहीं देगी। यदि किसी को टिकट चाहिए, तो वह नेता पहले पार्टी में अपने पद से इस्तीफा दे। इसके बाद ही संबंधित व्यक्ति टिकट की रेस में शामिल हो सकता है। सूत्रों की मानें तो पार्टी के महासचिव (संगठन) सुनील बंसल ने बैठक के दौरान टिकट वितरण को लेकर चर्चा की है। इसमें इस बात पर भी स्पष्ट निर्देश हैं कि मौजूदा विधायकों को फिर से टिकट नहीं दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें- UP Assembly Elections 2022 : भाजपा-कांग्रेस को मिला 'जीत' का मंत्र, सपा-बसपा ने भी तैयार किया मास्टर प्लान

यह भी होंगे मानक-

इसके अतिरिक्त टिकट को लेकर और भी कई मानक तय हुए हैं। बताया जा रहा है कि जिन विधायकों के क्षेत्र मं हुए पंचायत चुनाव में खराब प्रदर्शन रहा है, उन विधायकों को टिकट नहीं मिलेगा। साथ ही विधायकों को लेकर आंतरिक सर्वेक्षण को भी आधार बनाया जाएगा। पंचायत चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन को माना जाएगा। भाजपा ने पहले यह भी घोषणा की थी कि पार्टी नेताओं के रिश्तेदारों को पंचायत चुनाव लड़ने का मौका नहीं दिया जाएगा। हालांकि, बाद में पार्टी ने जीत के कारक को प्राथमिकता दी व स्वेच्छा से अपने नेताओं के बेटों, बेटियों और पत्नियों को टिकट बांटे।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह पूर्व में ही नेताओं को सख्त चेतावनी दे चुके हैं कि वे अपने-अपने निर्वाचन क्षेत्रों में लगी होर्डिंग्स को हटाएं व आगे न लगाएं। साथ ही कोई भी उम्मीदवारी का दावा न करें।

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned