West Bengal Assembly Elections 2021: चुनाव आयोग के नोटिस पर ममता बनर्जी का बड़ा पलटवार

West Bengal Assembly Elections 2021 के दौरान संप्रदाय के आधार पर वोट मांगने के आरोप पर चुनाव आयोग द्वारा भेजे गए नोटिस को लेकर गुरुवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पीएम मोदी पर बड़ा पलटवार किया।

 

कोलकाता। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव ( West Bengal Assembly Elections 2021 ) में प्रचार को लेकर चुनाव आयोग द्वारा बुधवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को बीते 3 अप्रैल को दिए गए एक बयान के लिए नोटिस जारी किया गया था। इसके जवाब में गुरुवार को ममता बनर्जी ने कहा कि भले ही ऐसे 10 नोटिस जारी हो जाएं, उन्हें शायद ही फर्क पड़े। इसके अलावा उन्होंने चुनाव आयोग के ऊपर पक्षपातपूर्ण कार्रवाई करने का भी आरोप लगाया।

चुनाव प्रचार के दौरान दामजूर में पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने कहा, "भले ही मेरे खिलाफ 10 कारण बताओ नोटिस जारी किए जाएं, यह शायद ही मायने रखता है। मैं सभी को एकजुट होकर मतदान करने के लिए कह रही हूं, इसमें कोई विभाजन नहीं होगा। नरेंद्र मोदी के खिलाफ कितनी शिकायतें दर्ज हुईं? वह हर दिन हिंदू-मुस्लिम करते हैं।"

उन्होंने आगे कहा, "उन लोगों के खिलाफ कितनी शिकायतें दर्ज की गईं जिन्होंने नंदीग्राम के मुसलमानों को पाकिस्तानी कहा था? क्या उन्हें शर्म नहीं आई? वे मेरे खिलाफ कुछ नहीं कर सकते। मैं हिंदुओं, मुसलमानों, सिखों, ईसाइयों और आदिवासियों के साथ हूं।"

गौरतलब है कि बीते 3 अप्रैल को ममता बनर्जी ने प्रदेश में जारी विधानसभा चुनावों के दौरान मुस्लिम मतदाताओं से विभिन्न राजनीतिक दलों के बीच अपने वोट न बांटने की अपील की थी। चुनाव आयोग ने मुख्यमंत्री से नोटिस प्राप्त करने के 48 घंटे के भीतर अपना रुख स्पष्ट करने के लिए कहा है, और ऐसा ना किए जाने पर "यह उन्हें बिना बताए फैसला लेगा"।

चुनाव आयोग के एक नोटिस के मुताबिक, उसे केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रतिनिधिमंडल से शिकायत मिली, जिसने कहा गया है कि हुगली जिले के तारकेश्वर में एक बैठक में भाषण देते हुए, ममता ने खुलेआम तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के लिए सांप्रदायिक आधार पर वोट मांगे।

टीएमसी प्रमुख ने पिछले सप्ताह कहा था, "मैं अपने अल्पसंख्यक भाइयों और बहनों से हाथ जोड़कर निवेदन कर रहा हूं कि 'शैतान' को सुनने के बाद अल्पसंख्यक मतों का विभाजन न करें... वह कई सांप्रदायिक बयान देता है और हिंदुओं और मुसलमानों के बीच टकराव शुरू करता है... भाजपा द्वारा दिए गए पैसे लेकर सीपीआई (एम) और भाजपा के कॉमरेड्स चारों ओर घूम रहे हैं ताकि अल्पसंख्यक वोट को विभाजित कर सकें।"

अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned