बाबर के वंशज प्रिंस ने राममदिंर निर्माण को लेकर दिया बड़ा बयान, कहा- सबसे पहले सोने की इंट लगाएंगे

बाबर के वंशज प्रिंस ने राममदिंर निर्माण को लेकर दिया बड़ा बयान, कहा- सबसे पहले सोने की इंट लगाएंगे

Ruchi Sharma | Publish: Oct, 14 2018 12:32:56 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

बाबर के वंशज प्रिंस ने राममदिंर निर्माण को लेकर दिया बड़ा बयान, कहा- सबसे पहले सोने की इंट लगाएंगे

इटावा. देश दुनिया के सबसे विवादित स्थलों में से एक अयोध्या में रामजन्मभूभि बाबरी मस्जिद स्थल पर बाबर और बहादुर शाह जफर के वंशज प्रिंस याकूब हबीबुद्दीन तुसी ने भगवान श्रीराम मंदिर के निर्माण की पहल करते हुए सबसे पहले सोने की इंट लगाने की बात कही है।


इटावा के वृंदावन गार्डन में अपने सैकड़ों साथियों के साथ अयोध्या कूच से पहले पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि वो उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने के लिए दो दिन से गोरखपुर में भटके लेकिन उन्होंने मिलने की दिशा में कोई तहजीह नहीं दी। इस मुद्दे पर हिन्दू-मुसलमान का कोई विवाद नहीं है। राजनेता इस पर बेवजह राजनीति कर रहे हैं। वे राष्ट्रपति के पास जाकर अयोध्या में भगवान राम के मंदिर निर्माण की वकालत करेंगे।

उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में पिटीशन फाइल की थी, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इसे विवादित ढांचा बोला है। वहां पर न मंदिर का मसला है और न मंदिर का। वहां पर जमीन का मसला है। टाइटल सूट के मुताबिक यह जमीन बाबर के निकल रही है। इसलिए इस मामले में उन्होंने राष्ट्रपति से समय मांगा है क्योंकि राष्ट्रपति को यह अधिकार होता है कि जो मामला न्यायालय में चल रहा है, उस पर वे कोर्ट को निर्देश दे सकते हैं।


कोर्ट ने कहा है कि वे पुराने पक्ष को सुनेंगे लेकिन सुन्नी वक्फ बोर्ड जमीन की मालिक नहीं बन सकती है जब कि हम जमीन के मालिक हैं। हम राष्ट्रपति को लिखकर देंगे और एक पिटीशन भी फाइल करेंगे कि इस मुद्दे को जल्द से जल्द खत्म किया जाए। इस मुद्दे को पार्लियामेंट या सुप्रीम कोर्ट को रेफर किया जाए और मंदिर बनवा दिया जाए।

उन्होंने संभावनाएं जाताई कि जिस हल्के ढंग से इस मुद्दे को लिया जा रहा है उसे देखकर कहा जा सकता है कि 2019 के बाद 2024 में भी यह मुद्दा खत्म नहीं होगा जिससे हिंदू-मुसलमान की नई पीढ़ी के दिलों में नफरत पैदा होगी इसलिए उनको मानना है कि यह मुद्दा जल्द से जल्द खत्म हो। उन्होने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने संसदीय चुनाव से पहले बहुत से दावे और वादे किए थे।

Ad Block is Banned