लखनऊ में सीएम योगी आदित्यनाथ से मिले शीर्ष संत अयोध्या को मिला बड़ा तोहफा

बीते दिनों भाजपा नेताओं के बयान और राम मंदिर मामले को लेकर भाजपा से नाराज़ थे संत सीएम से मिलकर दूर हुए गिले शिकवे

By: अनूप कुमार

Published: 07 Jun 2018, 06:36 PM IST

अनूप कुमार
फैजाबाद : बीते कई दिनों से पहले प्रदेश सरकार के उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा द्वारा माँ सीता पर दिए गए विवादित बयान और उस बयान से उपजे विवाद की लहर थमी भी नहीं थी कि भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता मुख्तार अब्बास नकवी ने एक सवाल के जवाब में साल 2019 में अपने एजेंडे में सिर्फ विकास की बात कह कर और अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के मामले को डर किनार करने के बयान के बाद अयोध्या के संतों का गुस्सा और भी बढ़ गया था . अयोध्या के संतों ने देश के प्रधनमंत्री के खिलाफ न सिर्फ बयान बाज़ी शुरू कर दी थी बल्कि साल 2019 के चुनाव में भाजपा का विरोध करने का भी मन बना लिया था . वहीँ इस विवाद के बाद उपजे आक्रोश को ठंडा करने के लिए पार्टी हाई कमान ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को आगे किया जिसके बाद सीएम योगी ने आग्रह कर अयोध्या के कुछ प्रमुख संतों को मुलाक़ात के लिए बुलाया , गुरुवार को प्रदेश की राजधानी में सीएम और अयोध्या के संतों के बीच हुई ख़ास मुलाक़ात के दौरान न सिर्फ राम मंदिर मुद्दे पर बात चीत हुई बल्कि अयोध्या के विकास से जुड़ी कई अन्य योजनाओं पर भी चर्चा हुई .

बीते दिनों भाजपा नेताओं के बयान और राम मंदिर मामले को लेकर भाजपा से नाराज़ थे संत सीएम से मिलकर दूर हुए गिले शिकवे

संतों से मुलाक़ात के दौरान अयोध्या में सरयू जयंती महोत्सव के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में आज 10 लाख रुपए की घोषणा की. सरयू जयंती महोत्सव 25 जून को मनाया जाएगा .सरयू जयंती महोत्सव का खुद मुख्यमंत्रीयोगी आदित्यनाथ उद्घाटन करेंगे. इससे पूर्व 25 जून को ही राम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपालदास के 80वें जन्मोत्सव समारोह में भाग लेंगे. सरयू जयंती महोत्सव का उद्घाटन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 25 जून को शाम 5 बजे करेंगे.अयोध्या में 25 जून को लगभग 5 घंटे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की रहने की संभावना है. गुरुवार अयोध्या विधायक वेद प्रकाश गुप्ता के नेतृत्व में अयोध्या के संतों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से लखनऊ में मुलाकात की. मुलाकात के दौरान संत महंत ने अयोध्या के विकास पर चर्चा की और कुछ अपनी मांग भी रखी. प्रमुख मांगों में संतो ने कहा कि राम की पैड़ी का सौन्दर्यीकरण व अविरल जल प्रवाह की व्यवस्था कराई जाए. संतो ने कहा कि रामायण सर्किट के तहत 133 करोड़ की जिन योजनाओं का काम चल रहा है उसमें तेजी लाई जाए ताकि जल्द से जल्द अयोध्या का विकास कार्य दिखाई पड़े. इन सभी मांगों पर विचार करने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आश्वासन भी दिया है . सीएम से मिलने वाले संतों में प्रमुख रूप से मणिराम छावनी के उत्तराधिकारी महंत कमल नयन दास , राम वल्लभा कुञ्ज के अधिकारी राज कुमार दास,नाका हनुमान गढ़ी के महंत राम दास ,दिगंबर अखाड़ा के महंत सुरेश दास ,उदासीन आश्रम के महंत डॉ भरत दास , आंजनेय सेवा संस्था के अध्यक्ष महंत शशिकांत दास , विक्रमादित्यमहोत्सव समिति के अध्यक्ष बाबा शिव शंकर दास सहित अयोध्या से भाजपा विधायक वेद प्रकाश गुप्ता मौजूद रहे .

अनूप कुमार Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned