सूर्य को अर्घ्य देकर छठ मैया से मांगी कोरोना महामारी से छुटकारा पाने की दुआ

लोकगीत के बीच सूर्योदय के समय शनिवार सुबह सूर्य को व्रती महिलाओं ने अर्घ्य देकर व्रत का परायण किया और छठ मैया से कोरोना महामारी से छुटकारा से दुआ मांगी।

By: Mahendra Pratap

Updated: 21 Nov 2020, 11:51 AM IST

फर्रुखाबाद. लोकगीत के बीच सूर्योदय के समय शनिवार सुबह सूर्य को व्रती महिलाओं ने अर्घ्य देकर व्रत का परायण किया और छठ मैया से कोरोना महामारी से छुटकारा से दुआ मांगी। कोरोना के चलते इस बार सामूहिक कार्यक्रम नहीं हुए फिर भी कुछ जगह कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए छठ मैया के पर्व को हर्षोल्लास से मनाया गया है।

सुबह से छठ पूजा की हर तरफ धूम दिख रही थी। फर्रुखाबाद में गंगा किनारे आराधना के लिए महिलाओं की भारी भीड़ उमड़ी हुई थी। छठ व्रतियों ने सरोवर, कुंडों और बहते पानी के स्रोत में स्नान किया। पांचालघाट पर महिलाओं ने सूर्य देवता को अर्घ्य देकर पूजा अर्चना की। और घर में गुड़, दूध और साठी के चावल से बने खरना के प्रसाद को ग्रहण किया। इस बीच महिलाओं के पारम्परिक लोक गीत पूरे माहौल में रंग घोल रहे थे। बच्चों की लंबी उम्र और परिवार की खुशहाली को लेकर की जाने वाली इस पूजा को लेकर महिलाओं सहित बड़े बूढ़े और बच्चों का उत्साह देखने लायक था।

इससे पूर्व चार दिवसीय डाला छठ महापर्व में शुक्रवार को गंगा के शीतल जल में खड़ी होकर व्रती महिलाओं ने अस्ताचल सूर्य को अर्घ्य दिया। विधिवत पूजन-अर्चन कर समृद्ध और खुशहाली की कामना भी की गई। इस दौरान गंगा घाट पर मेले जैसा दृश्य रहा।

पूर्वांचल विकास समिति ने पांचाल घाट गंगा तट पर छठ महापर्व के उपलक्ष्य में घाट की सफाई एवं सजावट का कार्य किया गया। जिसमें नगर पालिका और स्थानीय लोगों ने काफी सहयोग किया है। व्रती महिलाओं ने स्नान करने के बाद पूजा करने की सामग्री जैसे सभी प्रकार के फल, कच्चे बांस की सूप, कच्ची हल्दी, पत्ता सहित अदरक, मीठी पूड़ी, गन्ना, सामग्री को पश्चिम दिशा की ओर सजाकर रखा है। उसके बाद सूर्य की पुत्री का पूजन करने के पश्चात सभी को उसका प्रसाद वितरण किया गया।

Corona virus
Show More
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned