विलय से पहले बैंक ऑफ बड़ौदा को सरकार देगी 5,042 करोड़ रुपए, घोषणा के बाद बैंक के शेयरों में उछाल

विलय से पहले बैंक ऑफ बड़ौदा को सरकार देगी 5,042 करोड़ रुपए, घोषणा के बाद बैंक के शेयरों में उछाल

Ashutosh Kumar Verma | Publish: Mar, 28 2019 02:31:55 PM (IST) फाइनेंस

  • आगामी एक अप्रैल से प्रभावी होगा देना बैंक, विजय बैंक और बैंक ऑफ बड़ौदा का विलय।
  • तीनों बैंकों के खाताधारकों पर पड़ेगा प्रभाव।
  • नियामकीय फाइलिंग में बैंक ने सरकार के नोटिफिकेशन के बारे में जानकारी दी।

नई दिल्ली। आगामी एक अप्रैल से नए वित्तीय वर्ष की शुरुआत होने वाली है। ऐसे में अगर आपका खाता बैंक ऑफ बड़ौदा ( BoB ), विजया बैंक या देना बैंक में है तो आपके विशेष रूप से ध्यान देना होगा। दरअसल, आगामी 1 अप्रैल से बैंक ऑफ बड़ौदा में देना बैंक और विजया बैंक का विलय हो जाएगा। इस मर्जर के प्रभावी होने के बाद देना बैंक और विजया बैंक के खातेधारकों का खाता बैंक ऑफ बड़ौदा में ट्रांसफर कर दिया जाएगा। इस विलय योजना के तहत विजया बैंक के शेयरधारकों को प्रत्येक 1.000 शेयर पर बैंक ऑफ बड़ौदा के 402 इक्विटी शेयर मिलेंगे। इसी तरह देना बैंक के शेयरधारकों को प्रत्येक 1,000 शेयरों पर बैंक ऑफ बड़ौदा के 110 शेयर मिलेंगे।


देश को चौथा बड़ा बैंक बन जाएगा बैंक ऑफ बड़ौदा

सरकरी क्षेत्र की इन तीनों बैंकों के विलय के बाद देश को चौथा सबसे बड़ा बैंक मिल जाएगा। वर्तमान में, भारतीय स्टेट बैंक ( SBI ) 45.85 लाख करोड़ रुपए मूल्य के साथ देश का सबसे बड़ा बैंक है। वहीं, 15.8 लाख करोड़ रुपए के साथ एचडीएफसी बैंक देश का दूसरा सबसे बड़ा बैंक है। इस लिस्ट में तीसरे स्थान पर आईसीआईसीआई बैंक है जिसका कुल कारोबार करीब 11.02 लाख करोड़ रुपए है। विजय के बाद बैंक ऑफ बड़ौदा 15.4 लाख करोड़ रुपए हो जाएगा।


बैंक के खाताधारकों पर इस प्रकार पड़ेगा प्रभाव

इन तीनों बैंकों के विलय के बाद खाताधारकों पर भी कई तरह का प्रभाव पडऩे वाला है। विलय के बाद बैंक ऑफ बड़ौदा खाताधारकों को नया अकाउंट नंबर व कस्टमर आईडी दे सकता है। यदि ऐसा होता है तो खाताधरकों को इन जानकारियों के बारे में आयकर विभाग, इंश्योरेंस कंपनियों, म्यूचुअल फंड, नेशनल पेंशन स्कीम ( NPS ) आदि को सूचित करना होगा। यदि आपने सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान ( sip ) या लोन के लिए EMI जमा करते हैं तो इसको लेकर आपको इंस्ट्रक्शन फार्म भी भरना होगा। बैंक ऑफ बड़ौदा से आपको नया चेकबुक, डेबिट कार्ड जारी करवाना होगा। हालांकि, फिक्स्ड डिपॉजिट या रिकरिंग डिपॉजिट पर मिलने वाले ब्याज में कोई बदलाव नहीं होगा। मौजूदा बैंक शाखाओं में भी कुछ बदलाव किए जा सकते हैं।


विजया बैंक में सरकारी डालेगी 5,042 करोड़ रुपए

बता दें कि देना बैंक व विजया बैंक के विलय से ठीक पहले सरकार ने बैंक ऑफ बड़ौदा में 5,042 करोड़ रुपए डालने का फैसला लिया है। बैंक ऑफ बड़ौदा ने एक नियामकीय फाइलिंग में कहा कि वित्त मंत्रालय ( ministry of finance ) ने एक नोटिफिकेशन जारी कर जानकारी हमें जानकारी दी है। फाइलिंग में बैंक ने कहा, "वित्त वर्ष 2018-19 में इक्विटी शेयर (विशेष सुरक्षा/बॉन्ड्स) के आधार पर यह कैपिटल इन्फ्युजन किया जाएगा।"


सरकार के फैसले के बाद बैंक के शेयर्स उछले

सरकार की इस घोषणा के बाद गुरुवार को कारोबार के दौरान घरेलू शेयर बाजार में बैंक ऑफ बड़ौदा के शेयर्स में 6.21 फीसदी तक की तेजी देखने को मिली। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( BSE ) पर पिछले दिन यानी बुधवार को बैंक के शेयर्स 121.55 रुपए प्रति शेयर पर बंद हुए थे, जोकि गुरुवार को 129.10 रुपए प्रति शेयर की दर पर कारोबार करते हुए नजर आया। बता दें कि बीते तीन दिनों से बैंक के स्टॉक्स में तेजी देखने को मिली है, इस दौरान में स्टॉक्स में करीब 8.54 फीसदी की बढ़त दर्ज की गई है।

Read the Latest Business News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले Business News in Hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में पत्रिका पर।

 

 

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned