सभी ब्याज दरों को एक अक्टूबर से रेपो रेट से जोड़ने का आरबीआई ने दिया आदेश

सभी ब्याज दरों को एक अक्टूबर से रेपो रेट से जोड़ने का आरबीआई ने दिया आदेश

Saurabh Sharma | Updated: 05 Sep 2019, 09:20:34 AM (IST) फाइनेंस

  • 2019 में रेपो रेट में आरबीआई चार हो चुकी है कटौती
  • ब्याज दरों में मात्र 0.30 फीसदी कटौती ही कर सके है बैंक

नई दिल्ली। आरबीआई ने साफ निर्देश दे दिया है कि सभी बैंक होम लोन, पर्सलन और एमएसएमई के लिए जारी नई ब्याज दरों को रेपो दरों से लिंक करें। इसके लिए आरबीआई की ओर से 1 अक्टूबर तक का समय दिया है। ब्याज दरों को रेपो दरों से लिंक करने का लाभ सीधे जनता को मिलना शुरू हो जाएगा। आपको बता दें कि जनवरी से अब आरबीआई 110 बेसिस प्वाइंट्स नीतिगत दरों में कम कर चुकी है।

यह भी पढ़ेंः- सप्ताहभर के बाद पेट्रोल और डीजल के दाम में कटौती, 5 पैसे प्रति लीटर कम हुए दाम

आरबीआई का आदेश
रिजर्व बैंक के अनुसार मौजूदा एमसीएलआर व्यवस्था में रेपो रेट में बदलाव को बैंकों की ऋण दरों तक पहुंचाना कई कारणों से संतोषजनक नहीं देखा गया है। जिसकी वजह से रिजर्व बैंक ने सर्कुलर जारी कर बैंकों के लिए सभी नए पर्सनल या खुदरा ऋण और एमएसएमई वाले कर्ज को 1 अक्टूबर, 2019 से बाहरी मानक से जोडऩे को जरूरी कर दिया है। आरबीआई के अनुसार बाहरी मानक आधारित ब्याज दर को तीन महीने में कम से कम एक बार नए सिरे से तय किया जाना जरूरी होगा। करीब एक दर्जन बैंक पहले ही अपनी ऋण दर को रिजर्व बैंक की रेपो दर से लिंक कर चुके हैं।

यह भी पढ़ेंः- रियल एस्टेट में सुस्ती दूर करने को राहत की घोषणा कर सकती है सरकार

आरबीआई है इस बात से नाराज
आरबीआई इस बात से नाराज है कि रेपो रेट कम होने के बाद भी बैंक अपनी ब्याज दरों में कटौती नहीं कर रहे हैं। जनवरी से लेकर अब आरबीआई चार बार रेपो रेट में कटौती कर चुका है। जिसके तहत अब तक रेपो दरों में 1.10 फीसदी की कटौती की जा चुकी है। वहीं अप्रैल से अब तक की बात करें तो केंद्रीय बैंक 0.85 फीसदी की कटौती कर चुकी है।

यह भी पढ़ेंः- भारत के बाद इस देश में छाया मंदी का खौफ, 1.4 फीसदी आई जीडीपी दर

बैंकों ने दिया है 0.30 फीसदी का लाभ
आरबीआई के अनुसार की मौजूदा वित्तीय वर्ष में रेपो दरों में 0.85 फीसदी की कटौती करने के बाद भी बैंकों ने अगस्त तक सिर्फ 0.30 फीसदी ही ब्याज दरों में लाभ दिया है। बैंकों का कहना है कि उसकी देनदारियों की लागत कम होने में समय लगता है जिसकी वजह से रिजर्व बैंक की कटौती का लाभ तुरंत ग्राहकों को देने में समय लगता है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned