ATM Cash Transaction के नियमों पर 8 साल बाद हो सकता है बड़ा बदलाव, आरबीआई ने सकती है बड़ा झटका

  • एटीएम से 5000 से ज्यादा निकालने पर देना पड़ सकता है 24 रुपए का एक्सट्रा चार्ज
  • आरबीआई के एटीएम चार्ज की समीक्षा के लिए बनाई गई समिति ने सोंपी अपनी सिफारिशें

By: Saurabh Sharma

Updated: 22 Oct 2020, 11:45 AM IST

नई दिल्ली। डिजिटल ट्रांजैक्शन को बढ़ावा देने और कैश फ्लो को कम करने के लिए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया एटीएम कैश ट्रांजैक्शन ( ATM Cash Transaction ) के नियमों में बड़ा बदलाव करने का मन बना रही है। अगर यह बदलाव होता है तो 8 साल के बाद रिजर्व बैंक कोई बड़ा बदलाव करेगा। जिससे आम लोगों की जेब पर बड़ा फर्क पड़ेगा। वास्तव में रिजर्व बैंक की समिति की ओर से सिफारिश की गई हैं कि एटीएम से 5000 रुपए से ज्यादा निकालने पर अतिरिक्त चार्ज लगाना होगा। इस बात का खुलासा एक आरटीआई के जवाब में हुआ है। आइए आपको भी बताते हैं आरटीआई के जवाब में और क्या बताते हैं निकलकर सामने आई हैं।

यह भी पढ़ेंः- फेस्टिव सीजन में एसबीआई की सबसे बड़ी घोषणा, जानिए कितना सस्ता किया होम लोन

5000 रुपए से ज्यादा निकालने पर इतना देना होगा चार्ज
मीडिया रिपोर्ट की मानें तो एटीएम से 5 हजार से ज्यादा ट्रांजेक्शन करने पर बग कस्टमर्स को 24 रुपए एक्सट्रा देने होंगे। वहीं मौजूदा समय में एटीएम से महीने में 5 बार ट्रांजेक्शन करने पर कोई चार्ज नहीं लगता है और उसके बाद प्रत्येक ट्रांजेक्शन पर आपको 20 रुपए चार्ज देना पड़ता है। आपको बता दें कि रिजर्व बैंक की एक समिति की ओर से इस बात की सिफारिश की है। बीते आठ सालों में इतना बड़ा बदलाव देखने को नहीं मिला है।

यह भी पढ़ेंः- केंद्र सरकार का बड़ा ऐलान, दशहरें से पहले 30 लाख सरकारी कर्मचारियों को देगी 3737 करोड़ रुपए का बोनस

आरबीआई समिति की ओर से हुई सिफारिश
इस नियम के बदलाव के लिए आरबीआई की एक समिति की ओर से सिफारिश की गई है। वैसे इस रिपोर्ट को अभी सभी के लिए सार्वजजनिक नहीं किया गया है। इस बात की जानकारी एक आरटीआई के द्वारा मांगी गई जानकारी के जवाब में मिली है। जानकारी के अनुसार आरबीआई के एटीएम चार्ज की समीक्षा के लिए बनाई गई समिति की ओर से अपनी सिफारिशों को सौंप दिया गया है। जिसके तहत बैंक 8 साल बाद एटीएम चार्ज में बदलाव कर सकते हैं। आरटीआई के जवाब में मिली जानकारी के अनुसार रिजर्व बैंक की समिति ने कैश निकालने को कम से करने का सुझाव दिया था। यह रिपोर्ट 22 अक्टूबर 2019 को सौंपी गई थी। वैसे इस बात को सार्वजनिक नहीं किया गया है।

reserve bank of india
Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned