दर्द से चीख रही महिला को चेेकिंग के दौरान गाड़ी से पुलिस ने उतारा

Santosh Pandey

Publish: Sep, 16 2017 09:43:30 PM (IST)

Firozabad, Uttar Pradesh, India
दर्द से चीख रही महिला को चेेकिंग के दौरान गाड़ी से पुलिस ने उतारा

इलाज के लिए ले जा रही बोलेरो को ट्रैफिक पुलिस ने किया सीज

फिरोजाबाद। ड्यूटी करने के चक्कर में ट्रैफिक पुलिस मानवता का पाठ भी भूल गई। हार्ट अटैक पीड़िता को आगरा लेकर जा रही बोलेरो को ट्रैफिक पुलिस ने पकड़ लिया। महिला की चीखें सुनकर भी ट्रैफिक पुलिस कर्मियों का दिल नहीं पसीजा। ट्रैफिक पुलिस ने महिला को नीचे उतार गाड़ी को सीज कर दिया। बाद में इंस्पेक्टर ने महिला की स्थिति को देखते हुए गाड़ी को छोड़ दिया। यह कोई पहला मामला नहीं है। ट्रैफिक पुलिस के ऐेसे कारनामे जाए दिन चर्चा का विषय बने रहते है लेकिन ट्रैफिक पुलिस है कि वो चेतती ही नहीं। इस घटना की चर्चा पूरे दिन होती रही। 

आगरा ले जा रहा था उपचार को

शनिवार दोपहर थाना नारखी क्षेत्र के गांव सदा का बांस निवासी राकेश कुमार की पत्नी प्रियंका को हार्ट अटेक आया था। परिजन उसे बोलेरो संख्या यूपी 82 एच 8931 से आगरा उपचार के लिए ले जा रहे थे। नगर के सुभाष चैराहा पर ट्रैफिक इंस्पेक्टर रामवीर सिंह और सिपाही मान सिंह गाड़ी चेक कर रहे थे। सिपाही ने हाथ देकर बोलेरो को रूकवा लिया।

हाथ पैर जोड़े नहीं पसीजा दिल

राकेश ने ट्रैफिक सिपाही से पत्नी को हार्ट अटेक आने की बात कहते हुए छोडने का आग्रह किया लेकिन सिपाही ने उसकी एक नहीं सुनी। ट्रैफिक पुलिसकर्मियों ने दर्द से कराह रही महिला को गाडी से नीचे उतार दिया। गाड़ी को सीज कर थाने भिजवा दिया। पीडित महिला को आॅटो में बिठाकर थाने पहुंच गया। जहां थाने में महिला की हालत बिगड़ती देख थाना प्रभारी भानुप्रताप सिंह ने गाड़ी को छोड़ दिया।

थाना प्रभारी ने छोड़ी गाड़ी

थाना प्रभारी ने महिला को उपचार के लिए भेजने के साथ ही सड़क पर खड़े वाहनों को हटवाया। इस मामले में थाना प्रभारी का कहना है कि टीआई और सिपाही की शिकायत एसएसपी से की गई है। महिला की हालत गंभीर थी इसलिए गाड़ी को छोड़ दिया गया था।

1
Ad Block is Banned